लखनऊ, जेएनएन। पीएचडी प्रवेश के तहत 70 अंकों की लिखित और 30 अंकों का साक्षात्कार होगा। साक्षात्कार के लिए अंकों के निर्धारण के लिए कला संकायाध्यक्ष, वाणिच्य संकायाध्यक्ष, विधि संकायाध्यक्ष, प्रो. राजीव मनोहर, प्रो. अनिल मिश्रा की समिति साक्षात्कार में अकादमिक एवं प्रस्तुतिकरण के भारांक का निर्धारण करेगी। कुछ ऐसे ही महत्वपूर्ण निर्णय लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति एसके शुक्ला की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिए गए। 

शनिवार शाम लविवि के प्रशासनिक भवन में पीएचडी प्रवेश, नैक मूल्यांकन और शताब्दी वर्ष समारोह में आयोजन को लेकर बैठक हुई। बैठक में पीएचडी प्रवेश का जल्द विज्ञापन जारी किए जाने का भी निर्णय लिया गया। 

31 दिसंबर तक देनी होगी नैक की तैयारियों पर रिपोर्ट

बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि आइक्यूएसी निदेशक प्रो. राजीव मनोहर नैक मूल्यांकन के लिए संबंधित संबंधित प्रारूप को भरने के लिए वे स्वयं सभी विभागाध्यक्ष एवं विभागीय शिक्षकों के साथ बैठक करेंगे और इस संबंध में विभाग की सहायता / प्रशिक्षण देंगे। इसकेअलावा प्रक्रिया में खामियों के संबंध में ब्योरा तैयार करेंगे। विभाग के साथ बैठक में संबंधित संकायाध्यक्ष भी उपस्थित रहेंगे तथा पूर्व में हुए नैक मूल्यांकन में बताई गई खामियों से विभागाध्यक्षों को अवगत भी कराएंगे। इतना ही नहीं खामियों को दूर करने के लिए  समयबद्ध कार्ययोजना विभागाध्यक्ष तथा नैक निदेशक द्वारा संयुक्त रूप से उपलब्ध कराना होगा। नैक को लेकर विश्वविद्यालय के सभी विभागों की बैठक कर 31 दिसंबर, 2019 तक रिपोर्ट तैयार करनी होगी। ताकि मूलभूत रही सही कसर को दूर कर जल्द से जल्द नैक मूल्यांकनके संबंध मेंं कुलाधिपति के समक्ष एसएसआर प्रस्तुत किया जा सके। बैठक में कैलाश हास्टल में नैपकिन वेंडिंग मशीन और उससे संबंधित अन्य उपकरण लगाए जाने का भी निर्णय लिया गया।  

शताब्दी वर्ष समारोह केआयोजन को लेकर बैठक में कुलपति ने विशेष रूप से संकायाध्यक्षों एवं विभागाध्यक्षों को निर्देशित किया कि प्रत्येक विभाग में छात्र-छात्राओं को विश्वविद्यालय की गरिमामई अतीत एवं उपलब्धियों से प्रेरित किया जाए और वर्ष भर विभागीय गतिविधियों का कलेंडर बनाया जाए। बैठक में इस पर भी चर्चा हुई कि विद्यार्थी अपने विभाग से जुड़े पूर्व व बुजुर्ग छात्रों से संपर्क करें। साथ ही विवि के बुजुर्गों के देखभाल में सहयोग करें। प्रत्येक शैक्षिक विभाग में पूर्व छात्र शैक्षिक कक्ष बनाया जाए। ताकि पूर्व छात्र वहीं पर मौजूदा विद्यार्थियों का मार्गदर्शन कर सकें। बैठक में विश्वविद्यालय केशताब्दी वर्ष लोगो तथा परिधान केवितरण एवं विक्रय के लिए प्रो. निशि पांडेय को संयोजक बनाया गया है। बैठक में लविवि के सभी संकायाध्यक्ष व विभागाध्यक्ष मौजूद रहे। 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस