Terrorists in UP: लखनऊ, जागरण संवाददाता। एसडीपीआइ नेता मो. अहमद बेग और पीएफआइ प्रदेश अध्यक्ष मो. वसीम ने के साथ ही इनसे जुड़े अन्य लोगों ने 150 से अधिक वाट्सएप ग्रुप मोबाइल पर बना रखे थे। इन ग्रुपों में लखनऊ, बाराबंकी, बहराइच, गोंडा, उन्नाव के साथ ही मथुरा, काशी के अलावा पूर्वांचल, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जनपदों और सीमांचल बिहार तक के हजारों युवाओं को जोड़ रखा था। उन्हें जेहाद और कट्टरता का पाठ ग्रुप पर पढ़ाते थे। यह राजफाश इनके पास से बरामद मोबाइल से हुआ है।

अपनी जनसंख्या बढ़ाओ जितना रुपया लगे लगाओ : कट्टरपंथी ग्रुप से जुड़े वाट्सएप ग्रुप पर यह लोग गैर मुस्लिम धर्मों के लिए आग उगलते थे। उनके बारे में बहुत अभद्र टिप्पणी करते थे। युवाओं को सीधे यह संदेश देते थे कि गैर मुस्लिम युवाओं और महिलाओं को अपने साथ किसी हाल में जोड़ो। उन्हें अपनी ही तरह बनाओ। कैसे ही हो अपनी जनसंख्या बढ़नी चाहिए। अधिक से अधिक लोगों का मतांतरण कराओ। उन्हें नौकरी, रुपयों और अन्य गैर मुस्लिम धर्मों के लोगों को यह काफिर कहते थे। मुस्लिम युवाओं को लव जिहाद के लिए उकसाते थे।

कुकर बम बनाने में एक्सपर्ट है अब्दुल मजीद : एसटीएफ द्वारा रविवार रात विभूतिखंड इलाके से गिरफ्तार पीएफआइ सदस्य अब्दुल मजीद कुकर बम बनाने में एक्सपर्ट है। उसके एक साल पहले काकोरी से गिरफ्तार आतंकी मिनहाज से बहुत करीबी संबंध थे। मजीद काकोरी के महिपतमऊ का रहने वाला है। मिनहाज की गिरफ्तारी के बाद वह एसडीपीआइ नेता मो. अहमद बेग से जुड़ गया। मजीद भी इंटरनेट मीडिया पर गैर मुस्लिम धर्मों के आपत्तिजनक टिप्पणी करता था। इस आरोप में उसे 2020 गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था।

Edited By: Vikas Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट