लखनऊ (जागरण संवाददाता)। बम भोले के जयकारे से गुंजायमान मंदिर, परिक्रमा करते भक्त की टोली, कतारों में जल के साथ ही पूजन का थाल लिए महिलाएं व पुरुष, रुद्राभिषेक व के साथ भस्म आरती करते श्रद्धालु। महाशिवरात्रि के अवसर पर बुधवार को राजधानी के सभी शिव मंदिरों पर कमोवेश एक जैसा की नजारा दिखाई पड़ा। बम भोले के जयकारे से गुंजायमान नवाबी शहर की छटा देखते ही बन रही थी। आस्था और भगवान भोलेनाथ पर विश्वास करते भक्तों की कतारें मंदिरों में लगीं रहीं।

मनकामेश्वर मंदिर के कपाट भोर में आरती के साथ ही भक्तों के लिए खोल दिए गए थे। महंत देव्यागिरि के पूजन के साथ ही भक्तों की शुरू हुई कतारें दोपहर बाद तक लगी रहीं। भक्तों को किसी भी तरह की परेशानी न हो इसके लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं। बेलपत्र, पुष्प व धतूरा के साथ अन्य पूजन सामग्री की दुकानों पर भी भक्तों की भीड़ रही। मंदिर में भोर से ही लोग जमीन पर लेटकर परिक्रमा करते हुए पहुंचे। गोमती बंधे तक करीब डेढ़ किलोमीटर लंबी कतारों में खड़े श्रद्धालु अपनी बारी का इंतजार करते रहे। राजेंद्रनगर स्थित महाकाल मंदिर में भोर में भस्म आरती हुई। बाबा के अभिषेक के साथ महिलाओं ने एक लाख एक हजार बार ओम नम: शिवाय पाठ किया। व्यवस्थापक अतुल मिश्र के संयोजन में देर शाम महाआरती होगी। इंद्रेश्वर मंदिर, तुलसी मानस मंदिर के साथ ही नारायणपुरी स्थित शिव मंदिर, कोनेश्वर मंदिर, बड़ा व छोटा शिवाला व संदोहन देवी मंदिर स्थित शिव मंदिर सहित शहर के अन्य मंदिरों में सुबह से ही कतारें लगी रहीं। सुल्तानपुर रोड के खुर्दही बाजार स्थित कात्यायनी शक्ति पीठ पर सात दिवसीय शतचंडी महायज्ञ शुरू हुआ। संयोजक शिव कुमार अवस्थी ने बताया कि गणेश पूजन, अग्निदेव प्राकट्य, नव गृह यज्ञ, मंगली दोष निवारण महायज्ञ होगा।

By Jagran