लखनऊ, जेएनएन। अमेठी में पुलिस हिरासत में हुई मौत को लेकर विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा है। विपक्षी दलों ने सरकार पर झूठी दलीलें देकर मामले को दबाने की साजिश का आरोप लगाया है। निष्पक्ष जांच कराने व पीड़ित परिवारीजन को तत्काल राहत राशि देने की मांग की है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा ने योगी सरकार पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया कि 'यूपी पुलिस अपराधियों पर मेहरबान है, लेकिन हर दिन नागरिकों को परेशान करने में माहिर है। अमेठी के सत्य प्रकाश शुक्ला का परिवार बता रहा है कि उनको बच्चों के सामने टॉर्चर किया गया। हापुड़ में इस तरह की घटना हुई थी। भाजपा सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही।'

इससे पहले समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने इस मुद्दे पर ट्वीट करके सरकार को घेरा। उन्होंने लिखा, 'अमेठी में पुलिस हिरासत में हुई सत्य प्रकाश शुक्ला की मौत से उपजे जनाक्रोश को भाजपा सरकार झूठी दलीलें देकर दबाना चाह रही है। परिवारीजन ने थर्ड डिग्री की प्रताड़ना का जो आरोप लगाया है, उसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए, नहीं तो भाजपा सरकार से जनता का रहा-सहा भरोसा भी उठ जाएगा।'

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने आरोप लगाया कि अमेठी की घटना में जहां 26 लाख की लूट हुई, वहां पुलिस अपराधियों तक नहीं पहुंच पाई। निर्दोषों का उत्पीड़न किया जा रहा है। हिरासत में लिए गए सत्यप्रकाश शुक्ला की मौत के लिए पुलिस जिम्मेदार है। परिवार के लोग आरोप लगा रहे हैं कि पुलिस ने थर्ड डिग्री का प्रयोग किया जिसके कारण शुक्ला की मौत हुई। लल्लू ने चेतावनी दी है कि हिरासत में मौत की निष्पक्ष जांच न कराई गई तो कांग्रेस व्यापक आंदोलन करेगी। वहीं जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ता प्रो. केके त्रिपाठी ने हिरासत में मारे गए सत्यप्रकाश के परिवारीजन को 20 लाख रुपये राहत राशि देने की मांग की। रालोद के प्रवक्ता अनिल दुबे ने घटना की जांच हाई कोर्ट के जज से कराने की मांग की है।

परिवारजन ने पुलिस अभिरक्षा में थर्ड डिग्री देने का लगाया है आरोप

यूको बैंक के मैनेजर से हुई 26 लाख रुपये की लूट के मामले में पूछताछ के लिए हिरासत में लिए गए एक आरोपित की मौत हो गई मंगलवार को अमेठी में हो गई है। परिवारीजन का आरोप है कि युवक की मौत पुलिस अभिरक्षा में थर्ड डिग्री देने से हुई है, लेकिन एसपी ने हिरासत में मौत होने की बात से इन्कार किया है। पीपरपुर थाना क्षेत्र के परसोइयां गांव में बीते 5 अक्टूबर को यूको बैंक के मैनेजर से अज्ञात बदमाशों ने दिनदहाड़े 26 लाख रुपये लूट लिए थे। पुलिस ने शक के आधार पर  सत्य प्रकाश शुक्ला उर्फ साजन (52) को हिरासत में लिया था।

एसपी डॉ. ख्याति गर्ग ने बताया कि यूको बैंक की एक शाखा सत्यप्रकाश के घर में चलती है। बैंक लूट मामले में उनकी ओर से मुखबिरी की बात प्रकाश में आई थी।मंगलवार सुबह उसे और उसके दो पुत्रों को पुलिस पूछताछ के लिए थाने लाई थी, जहां उसकी तबीयत खराब होने पर सीएचसी भादर ले जाया गया। चिकित्सकों ने रेफर कर दिया। उसे सुलतानपुर जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई। उसने अपने पुत्रों से जहरीला पदार्थ खाने की बात कही थी।

Posted By: Umesh Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप