लखनऊ, जेएनएन। राजधानी के अस्पतालों में ऑक्सीजन का भारी संकट खड़ा हो गया है। सबसे बड़े जिला अस्पताल बलरामपुर में कुछ ही घंटों की ऑक्सीजन रह गई है। वहीं प्राइवेट अस्पतालों में भी ऑक्सीजन का स्टॉक खत्म हो गया है। हाल ये है कि मेयो हॉस्पिटल ने गेट के बाहर ऑक्सीजन के स्टॉक खत्म होने और अपने मरीजों को हायर सेंटर ले जाने का नोटिस चिपका दिया है। वहीं टीएस मिश्र हॉस्पिटल से भी मरीजों को ले जाने को कह दिया गया है। 

राजधानी के बलरामपुर अस्पताल आक्सीजन की भारी किल्लत हो गई है। सूत्रों के मुताबिक कुछ घंटों की आक्सीजन सप्लाई रह चुकी है। बता दें कि बलरामपुर अस्पताल में 290 मरीज भर्ती हैं। अस्पताल प्रशासन ऑक्सीजन के संकट को लेकर सीएमओ और डीएम को पिछले कई दिनों से लगातार मेल और फोन के माध्यम से सूचित कर रहा है। इसके बावजूद अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। वहीं जिला प्रशासन के मुताबिक ऑक्सीजन की व्यवस्था की जा रही है।

सीएमएस डॉ आर के गुप्ता ने बताया ऑक्सीजन का स्टॉक जल्द खत्म होने वाला है। वहीं अस्पताल के निदेशक डॉ राजीव लोचन के मुताबिक अभी सात से आठ घंटे की ऑक्सीजन मौजूद है। वहीं अस्पताल प्रबंधन जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग को दो-तीन दिनों से लगातार मेल करके वह फोन के माध्यम से जानकारी दे रहा है। उन्होंने बताया कि अब ऑक्सीजन का जल्द प्रबंध करना होगा नहीं तो मुश्किल बढ़ सकती है। वही इस बारे में कोविड-19 प्रबंधन के अधिकारी बनाए गए। डॉक्टर जी एस बाजपेई से कई बार संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने फोन काट दिया। सीएमओ डॉ संजय भटनागर भी फोन नहीं उठा रहे।

निजी अस्पतालों ने लगाया नोटिस: सरकारी के साथ साथ निजी अस्पतालों का भी हाल बुरा है। ऑक्सीजन की किल्लत की वजह से गोमतीनगर स्थित मेयो हॉस्पिटल ने गेट के बाहर नोटिस लगा दी है। नोटिस में लिखा है कि अस्पताल में ऑक्जीन की सप्लाई नहीं है। इसलिए तीमारदारों से अनुरोध है कि वे अपने मरीजों को हायर सेंटर ले जाएं। वहीं टीएस हॉस्पिटल में भी ऑक्सीजन की किल्लत की वजह से मरीजों को बाहर निकाला जा रहा है। हालांकि नोटिस लगने के कुछ देर बाद मेयो हास्पिटल में जिला प्रशासन की ओर से कुछ घंटों का बैकअप भेजा गया है, लेकिन अभी भी किल्लत बरकरार है। 

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021