लखनऊ, जेएनएन। प्याज के शौकीनों को अभी मन मसोस कर ही काम चलाना होगा। हर रोज बढ़ती कीमतों के चलते लोगों की थाली से प्याज दूर होता चला जा रहा है। बिना कटे ही लोगों के आंसू निकाल रहे प्याज की कीमतें राजधानी में सौ प्रति किलो के पार पहुंच गई है। गंभीर बात है कि नई फसल आ गई है और जमाखोरी की वजह से प्याज की बढ़ती कीमतों पर जिला प्रशासन भी अंकुश लगाने में नाकाम साबित हो रहा है। 

दीपावली के बाद से प्याज की बढ़ी कीमत को लेकर मंडी अभी भी उबर नहीं पाई है। लगातार चढ़ती प्याज की कीमतों ने चटपटे भोजन के शौकीनों का स्वाद फीका कर रखा है। बढ़ी कीमत का असर घरेलू रसोई से लेकर होटल प्रतिष्ठानों पर खूब दिख रहा है। थोक मंडी में कांटा 90 से 92 रुपये प्रतिकिलो में उठा। खपत के अनुरूप आपूर्ति न होने पर प्याज की कीमतें अभी सामान्य होने के आसार नहीं है। शहर की थोक मंडी दुबग्गा और सीतापुर रोड मंडी में प्याज के दाम चढ़े हुए हैं। दुबग्गा मंडी के आढ़ती शहनवाज हुसैन बताते हैं कि गुरुवार को मंडी का कांटा 92 रुपये प्रतिकिलो पर रुका। वहीं पसेरी साढ़े चार सौ से पांच सौ रुपये बिकी। सीतापुर रोड स्थित मंडी के आढ़ती टिंकू सोनकर के मुताबिक बाजार में खपत के अनुरूप माल ही नहीं है। 

मॉल में 109 रुपये में मिल रहा प्याज

गुरुवार को सहारागंज शॉपिंग मॉल में प्याज की उपलब्धता तो ठीक मात्रा में रही मगर कीमतें भी कम न थी। प्याज और लहसुन दोनों की कीमत 109 रुपये प्रति किलो रही। मॉल में लहसुन भी प्याज के ही दाम में नजर आया। 

फुटकर मंडी में प्याज प्रति किलो 

  • रकाबगंज-मसकगंज मंडी:  100 से 120 रुपये
  • चौक और ठाकुरगंज मंडी: 100 से 110 रुपये 
  • नरही: 120 रुपये 
  • गोमती नगर 120 रुपये 
  • डालीगंज:110 रुपये 

प्रत्येक वार्ड में दो स्थानों पर मिलेगा सस्ता प्याज

लगातार आसमान छू रही प्याज की कीमतों की रोकथाम और लोगों को सस्ती दरों पर प्याज उपलब्ध कराने के लिए जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने गुरुवार को तमाम महकमों की बैठक बुलाई। डीएम ने जमाखोरों पर नकेल कसने के साथ ही प्रत्येक वार्ड में न्यूनतम दो प्याज बिक्री केंद्र खोलने के निर्देश दिए।

कलेक्ट्रेट में हुई बैठक में आपूर्ति, एग्रीकल्चर, मंदी परिषद और कल्याण कर्मचारी परिषद के अधिकारी मौजूद थे। डीएम ने कहा कि प्याज में स्थिरता के लिए योजना बनाई जाए। डीएम ने अधिकारियों को नासिक मंडी से भी समन्वय बनाने के निर्देश दिए। डीएम ने कहा कि अब तक शहर में केवल 11 केंद्रों पर ही सस्ती दरों पर प्याज मिल रहा है, जो पर्याप्त नहीं है। प्रत्येक वार्ड में कम से कम दो सेंटरों पर बिक्री होनी चाहिए। डीएम ने अफसरों से प्याज की जमाखोरी को लेकर निरीक्षण करने को कहा।

हर मंडी में सब्जी के भाव में उतार चढ़ाव

शहर में सब्जी का भाव मंडी से स्थानीय बाजार और वहां से ठेले तक आने में काफी अंतर आता है। मंडी में जहां धनिया 15 रुपये किलो है तो स्थानीय बाजार में 40 तो ठेले पर करीब 50 रुपये तक पहुंच जाती है। ऐसा ही हाल लगभग हर सब्जी का है। सब्जी के भाव में इस तरह के उतार चढ़ाव से आम नागरिक हलकान है। शहर के दो छोर पर जब सब्जी के भाव का आकलन किया गया तो बड़ा अंतर नजर आया। इसमें मुख्य रूप से प्याज, लहसुन, टमाटर, धनिया की कीमत रही। 

सब्जियों के दाम (किलो में)

सब्जी - राजाजीपुरम - टेढ़ी पुलिया 

आलू  - 25 -  24

प्याज - 120 -  100

टमाटर  - 25 - 20

लौकी - 40 - 35

तरोई - 50 - 50

करेला - 60 - 55

शिमला मिर्च - 40 - 40

परवल - 80 - 75

बैंगन - 25 - 25

भिण्डी - 30 -  30

हरी मिर्च - 40 -  35

कद्दू  - 40 - 40

लहसुन - 220 -  180

हरी धनिया - 40 - 15

मटर  - 35 -  32

फूलगोभी  - 20पीस - 25 पीस

सेम - 40 - 35

मूली - 10 की 4 - 10की 5

अदरक  -  80 -  80

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस