लखनऊ, जेएनएन। शहर को स्मार्ट बनाने की कवायद अब वन सिटी वन कार्ड से की जाएगी। अभी तक उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल काॅरपोरेशन लिमिटेड यूपीएमआरसी  अपने गो स्मार्ट कार्ड के जरिए मेट्रो की सेवाएं जोड़ने  के साथ ही बिजली, गृहकर, जलकर, फोन के बिल जमा करने  की सुविधा दे रहा था, लेकिन स्मार्ट सिटी का वन सिटी वन कार्ड भी यही सुविधा देकर गो स्मार्ट कार्ड को टक्कर देगा।  

कुल मिलाकर एक शहर में दो ऐसे कार्ड  शहरवासियों के पास रह सकते हैं, जिसका उपयोग  करके वह लाभ उठा सकते हैं। यही नहीं मंडलायुक्त की स्मार्ट सिटी बैठक में वन सिटी  वन कार्ड को वन नेशन वन  कार्ड बनाने का दावा  किया गया है। कार्ड में बैलेंस रखते हुए सुविधाओं का लाभ ले सकेंगे। वहीं लखनऊ मेट्रो ने भी अपने  कार्ड का विस्तार करते हुए जल्द ही मेट्रो स्टेशनों  पर मौजूद खानपान स्टाॅल व पार्किंग का लाभ देने जा रहा है। 

 स्मार्ट सिटी की बुधवार को हुई बोर्ड बैठक में वन सिटी वन कार्ड का वहीं फार्मूला लाया गया है, जिसका लखनऊ मेट्रो वर्ष 2017 से प्रयास कर रहा है। तत्कालीन  मंडलायुक्त ने चदं  वर्ष पहले स्मार्ट सिटी योजना के अंतर्गत ही गो स्मार्ट कार्ड से गृहकर जमा करने की सुविधा मेट्रो स्टेशनों के  काउंटर पर शुरु करवाई  थी। यह सेवा जिस गति से शुरू हुई थी, उस गति से इसको रफ्तार नहीं मिली। आज भी शायद कोई यात्री अपना गृहकर और फोन बिल जमा करता हो। क्योंकि संबंधित विभागों ने इस ओर ध्यान ही नहीं दिया। हालांकि मेट्रो ने अपने गो स्मार्ट कार्ड को बढ़ावा देने के लिए हर दिन प्रयास कर रहा है। इसके कारण आज मेट्रो के डेढ़ लाख से अधिक गो स्मार्ट कार्ड धारक हो गए हैं। 

 यूपीएमआरसी  एमडी कुमार केशव कहते हैं कि सेवाओं को जोड़ने के लिए लखनऊ मेट्रो प्रयासरत है। परिवहन के साथ ही बिजली बिल, पार्किंग व कुछ रेस्टोरेंट में गो स्मार्ट कार्ड का उपयोग हो सके, इसके  लिए प्रयास  हो रहे हैं।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस