लखनऊ [अंशू दीक्षित]। बिजली उपभोक्ता अपने मोबाइल पर एप से भी बिल जमा कर सकेंगे। इसकी कवायद शुरू कर दी गई है। उम्मीद है आगामी माह में मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड एप को लांच कर देगा।

नई सुविधा का उद्देश्य है कि बिलिंग प्रतिशत बढ़ने के साथ ही उपभोक्ताओं के सामने बिल जमा करने के आसान विकल्प रहें। अभी तक यूपीपीसीएल की वेबसाइट और पेटीएम से बिल जमा करने की सुविधा ऑनलाइन है। ई-सुविधा केंद्र, जन सुविधा केंद्र जाकर उपभोक्ता नकद, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, चेक व ड्राफ्ट के जरिए भी बिल जमा होता है। नई व्यवस्था के तहत उपभोक्ताओं को मोबाइल पर संबंधित एप डाउनलोड करना होगा। फिर वहां अपना अकाउंट बनाना होगा। एप में उपभोक्ता को मीटर रीडर का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। वे खुद मीटर पर आई रीडिंग एप पर भर सकेंगे, जो वर्तमान दर के हिसाब से बिल जनरेट कर देगा। उपभोक्ता इसका प्रिंटआउट भी प्रिंटर से निकाल सकेंगे। एमडी मध्यांचल ने बताया कि आज हर हाथ में मोबाइल है, इसलिए बिजली बिल जमा करने का एक और विकल्प उनके लिए सुविधाजनक होगा। एमडी मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड सूर्य पाल गंगवार के मुताबिक उपभोक्ताओं के सामने बिल जमा करने के कई विकल्प होने चाहिए। इसीलिए नया एप तैयार कराया गया है। उपभोक्ता इसके जरिए अधिक रीडिंग का भी बिल जमा कर सकेंगे।

आठ फीसद जमा करते ऑनलाइन बिल

अभी तक सिर्फ आठ फीसद बिजली उपभोक्ता ही ऑनलाइन बिल जमा करते हैं। गोमती नगर, मुंशी पुलिया, इंदिरा नगर, हुसैनगंज, राजभवन, वृंदावन, महानगर, विश्वविद्यालय सहित कुछ ही डिवीजन हैं, जहां ग्राफ तेरह से चौदह फीसद है। बाकी क्षेत्र में स्थिति एक फीसद से भी कम है।

दस लाख उपभोक्ताओं को करेंगे कनेक्ट

राजधानी के उपभोक्ताओं को बिजली के आने-जाने की जानकारी मैसेज के जरिये मिले, इसके लिए राजधानी में यह व्यवस्था को पुख्ता करने का इस बार फिर से लक्ष्य रखा गया है। नवनियुक्त मध्यांचल एमडी सूर्य पाल गंगवार ने शहरी व ग्रामीण के करीब दस लाख उपभोक्ताओं को कनेक्ट करने की पहल की है। सभी सर्किल व डिवीजन को निर्देश दिए गए हैं कि फरवरी तक उपभोक्ताओं के सही मोबाइल नंबर लिए जाए और संबंधित क्षेत्र में होने वाले शट डाउन की जानकारी मैसेज के जरिये दी जाए।

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस