लखनऊ, जेएनएन। आपके घर से कूड़ा लिया गया है कि नहीं? इस पर अब क्यूआर कोड (मैट्रिक्स बारकोड) से निगरानी होगी। अब नगर निगम क्यूआर कोड की प्लेट आपके घर के बाहर लगा देगा। कूड़ा एकत्र करने वाला कर्मचारी क्यूआर कोड को स्कैन कर रिपोर्ट देगा। इससे पता चला जाएगा कि घर से कूड़ा उठ गया है। पटरी से उतर चुकी घर-घर से कूड़ा उठाने की योजना को ठीक करने के लिए ही नगर निगम ऐसा करने जा रहा है। 

विशाखापट्नम में क्यूआर कोड (मैट्रिक्स बारकोड) से कूड़ा प्रबंधन में मिली सफलता और घर-घर से कूड़ा उठान की हकीकत का पता चलने के बाद नगर निगम सभी छह लाख घरों में क्यूआर कोड की मदद लेगा। फिलहाल स्मार्ट सिटी योजना में चयनित कैसरबाग से जुड़े इलाकों में पायलट प्रोजेक्ट में इस योजना को लागू किया जाएगा। इसमें जेसी बोस वार्ड, रानीलक्ष्मी बाई वार्ड, नजरबाग, यदुनाथ सान्याल वार्ड, हजरतगंज रामतीर्थ वार्ड और गोलागंज वार्ड शामिल हैं। स्मार्ट सिटी में इन वार्डों के कुछ भाग ही जोड़े गए थे, जो कुल 813 एकड़ क्षेत्रफल में है। 

विशाखापट्टम से इस योजना को देखकर लौटे नगर आयुक्त डॉ.इंद्रमणि त्रिपाठी ने बताया कि शहर के हर घर के बाहर क्यूआर कोड की प्लेट लगाकर कूड़ा उठान की निगरानी होगी। फिलहाल स्मार्ट सिटी परियोजना में शामिल कैसरबाग क्षेत्र से जुड़े 813 एकड़ क्षेत्रफल में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में इसकी शुरुआत होगी। नगर निगम में दर्ज हाउस आइडी से क्यूआर कोड को जोड़ा जाएगा। 

बिंस में लगेंगे सेंसर 

बिंस (बड़े कूड़ादान) से कूड़ा उठा की नहीं, इसकी जानकारी सब ऑनलाइन होगी। दो टन और पौन टन कूड़ा वाले बिंस में सेंसर लगाया जाएगा और समय भी तय होगा। अगर निर्धारित समय पर कूड़ा नहीं उठा तो कंट्रोल रूम में अलार्म बजने लगेगा। 

 

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस