लखनऊ, जेएनएन। सर्दी के मौसम में तेल और रिफाइंड की कीमतों में इजाफा हुआ है। बीते एक हफ्ते से कीमतें लगातार चढ़ी हुई हैं। व्यापारी इसके पीछे सोया की फसल कम होने और उससे तय माल का प्रतिशत न निकल पाने की वजह से कीमतों पर असर पड़ा है। यही नहीं ठंड की वजह से बाहर से आने वाला जम चुका पाम ऑयल की आपूर्ति भी नहीं हो पाई है। इसके कारण बाजार में खाद्य तेल काफी महंगा है। फुटकर मंडी में सरसों का तेल बीस रुपये और रिफाइंड में दस रुपये लीटर की तेजी है। वहीं, पाम ऑयल की कीमतों में भी बीस रुपये लीटर की तेजी दर्ज की गई है। 

खाद्य तेलों के थोक कारोबारी विनोद अग्रवाल बताते हैं कि फसल हल्की और माल कम निकलने से खाद्य तेल महंगा हुआ है। जाड़ा और सहालग में खपत बढऩे से इसकी कीमतों पर भी असर आता है। हालांकि सरकार ने इंपोर्ट ड्यूटी कम कर दी है। इससे बाजार पर असर कम होगा। पंद्रह लीटर वाले टिन में करीब 90 से सौ रुपये का अंतर आया है।

मशकगंज के फुटकर कारोबारी शंकरलाल बताते हैं कि फुटकर बाजार में सरसों का अव्वल तेल 120 रुपये लीटर है। वहीं, टॉप रिफाइंड ऑयल 120 रुपये लीटर है। पॉम ऑयल की प्रति लीटर कीमत 90 रुपये है। शंकरलाल का कहना है कि मलेशिया से पॉम ऑयल आता है। ठंड की वजह से इसकी आपूर्ति थमी है। 

फुटकर मंडी

खाद्य तेल-हफ्तेभर पहले कीमत (प्रति लीटर रुपये)-अब दर 

  • सरसों को तेल अव्वल-100-120
  • रिफाइंड-100-110
  • पॉम ऑयल-70-90

थोक मंडी 

खाद्य तेल-हफ्तेभर पहले कीमत (प्रति लीटर रुपये) -अब दर 

  • सरसों के तेल का टिन (15ली.)-1305-1400
  • रिफाइंड-1500-1580

 

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस