लखनऊ [निशांत यादव]। शहरवासियों को दिल्ली, पंजाब और जम्मूतवी जाने के लिए जल्द ही नए रूट पर टेनों का विकल्प मिल सकता है। पहले से ही क्षमता से डेढ़ गुना ओवरलोड चल रही लखनऊ-बरेली रेलखंड की जगह सीतापुर होकर ट्रेनों संचालन की तैयारी है। रेलवे सीतापुर होकर दिल्ली और पंजाब रूट पर टेनें चलाने पर विचार कर रहा है।

दरअसल, अभी दिल्ली, पंजाब और जम्मूतवी जाने के लिए लखनऊ से दो रूट हैं। एक रूट लखनऊ से कानपुर का है जबकि दूसरा रूट लखनऊ से बरेली है। दोनों ही रूट ओवरलोड हैं। इन रेलखंड पर क्षमता से डेढ़ गुना ट्रेनें दौड़ रही हैं। ऐसे में रेलवे ने सीतापुर से ऐशबाग तक अमान परिवर्तन पूरा कर लिया है। रेलवे सीतापुर को बड़ा जंक्शन बनाकर ऐशबाग से दिल्ली के लिए नया रूट बनाने की तैयारी कर रहा है। रेलवे ने दो विकल्पों पर कार्य शुरू भी कर दिया है। एक तो ऐशबाग से सीतापुर तक ट्रेन को चलाकर वहां से इंजन रिवर्स कर रोजा होते हुए ट्रेन संचालन किया जाए। हालांकि इसके लिए नॉन इंटरलॉकिंग और ट्रेनों की शंटिंग को लेकर रेलवे को काम करना होगा।

वहीं रेलवे ने दूसरा विकल्प ऐशबाग से सीतापुर के बाद मैलानी और पीलीभीत तक अमान परिवर्तन पूरा होते ही सीधे बरेली होकर ट्रेन संचालन का तैयार किया है। दोनो को लेकर पूवरेत्तर रेलवे मुख्यालय और रेलवे बोर्ड के बीच मंथन चल रहा है। साथ ही उत्तर रेलवे का मुरादाबाद रेल मंडल को भी इसमें शामिल किया गया है।

मुरादाबाद मंडल ने ही लखनऊ-आनंद विहार डबल डेकर को जयपुर तक विस्तार के लिए समय बदलने पर पाथ देने में असहमति जताई थी। जिस कारण पिछले साल जून में नोटिफिकेशन के बावजूद डबल डेकर का संचालन जयपुर तक शुरू नहीं हो सका था।

क्‍या कहते हैं अफसर?

 पूर्वोत्तर रेलवे मुख्यालय के सीपीआरओ संजय यादव के मुताबिक, ऐशबाग से सीतापुर होकर दिल्ली, पंजाब और जम्मूतवी के लिए नया रूट बनाने पर रेलवे ने मंथन शुरू कर दिया है। कई सांसदों ने भी ऐशबाग से बरेली होकर दिल्ली की ट्रेनें चलाने की मांग की है। रेलवे सीतापुर से पीलीभीत तक अमान परिवर्तन पूरा होते ही सीधे रूट पर ट्रेन चला सकता है। हालांकि सीतापुर से रोजा रूट पर ट्रेन चलाने में परिचालन की दृष्टि से कठिनाई आएगी। जल्द ही बोर्ड कुछ निर्णय ले सकता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस