लखनऊ, जेएनएन। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गौतमबुद्ध नगर के जेवर में गुरुवार को नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास किया। उत्तर प्रदेश को यह नायाब तोहफा मिलने के बाद विपक्षी दलों में इसका श्रेय लेने की होड़ मच गई। बहुजन समाज पार्टी के साथ ही समाजवादी पार्टी ने भी इसका श्रेय लिया है।

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने तीन ट्वीट में नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का श्रेय लिया है। मायावती ने लिखा है कि बीएसपी की सरकार गौतमबुद्ध नगर के जेवर क्षेत्र में ताज इंटरनेशनल एयरपोर्ट व एविएशन हब एवं नोएडा से बलिया तक 8-लेन की गंगा एक्सप्रेस-वे आदि परियोजनाओं की मार्फत उत्तर प्रदेश में रोजगार व विकास को नया आयाम दे रही थी। बसपा की उत्तर प्रदेश में पूरी तैयारी के बावजूद कांग्रेस सरकार ने अड़ंगा लगाकर असहयोग किया। मायावती ने कहा कि पहले सपा व अब भाजपा सरकार का कार्यकाल गुजरने के लगभग एक दशक बाद इन महत्तवाकांक्षी योजनाओं का शिलान्यास हुआ है। विकास के ऐसे कामों को समय से शुरू होकर पूरा भी हो जाना चाहिए था, किन्तु अब विधानसभा चुनाव के समय इसकी नींव रखे जाने पर सरकार की नीयत व नीति पर शक उठना स्वाभाविक। मायावती ने कहा कि इसके साथ ही, बिना उचित मुआवजा व पुनर्वासन के भूमि अधिग्रहण के प्रति माननीय कोर्ट ने भी नाराजगी जाहिर कर इस सम्बंध में कड़े निर्देश दिए हैं। प्रदेश में सरकार चाहे किसी भी पार्टी की रही हो, बीएसपी तो यूपी की गरीबी, बेरोजगारी, पिछड़ेपन व पलायन से मुक्ति की हमेशा पक्षधर व प्रदेश के समग्र विकास की समर्थक रही है।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश ने भी नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के शिलान्यास के बाद ट्वीट किया। अखिलेश ने लिखा है कि अगर समाजवादी पार्टी की सरकार के समय फिरोजाबाद में प्रस्तावित इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनने की अनुमति केंद्र की भाजपा सरकार ने रोकी ना होती तो इस समय 'जेवर' के साथ 'चूडिय़ों' को भी जुडऩे का मौका मिलता और उत्तर प्रदेश का वैकासिक शृंगार पूर्णता की ओर बढ़ता। सपा ही देगी उत्तर प्रदेश के विकास को नयी उड़ान।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि जेवर एयरपोर्ट में किसानों की जमीनें ली गई। आज उन्हें जेल में रखा गया, उनको बेघर किया गया। इतना ही नहीं उन्हें टेंट में रहने के लिए मजबूर कर दिया गया है। आज पीएम ने बड़ी - बड़ी बातें कहीं, लेकिन जेवर के किसानों के दर्द भूल गये। 

Edited By: Dharmendra Pandey