जागरण संवाददाता, लखनऊ : इन्वेस्टर्स समिट के दौरान शहर को गणतंत्र दिवस की भांति दुल्हन की तरह सजाया जाएगा। सभी सरकारी और निजी भवन रोशनी से जगमग होंगे। समिट में मेहमानों को किसी तरह की दिक्कत नहीं हो इसकी खातिर शहर में तीन दिनों तक धरना-प्रदर्शनों की अनुमति नहीं दी जाएगी।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने मंगलवार को तमाम विभागों के अफसरों के साथ इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान का दौरा किया। डीएम ने आसपास के भवनों का निरीक्षण भी किया। डीएम ने अफसरों को निर्देश दिए कि इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के आसपास जितने भी सरकारी और निजी भवन हैं उनमें उपलब्ध पार्किंग को खाली करा लिया जाए। इसका उपयोग समिट के दौरान किया जाएगा।

डीएम ने एयरपोर्ट से लेकर शहीद पथ तक सड़क के दोनो किनारों पर मौजूद इमारतों को जगमग करने के निर्देश दिए। डीएम ने कहा कि निजी भवनों को भी सजाया जाएगा। ताकि यहां आने वाले मेहमानों को शहर की खूबसूरत दिखे।

तीन दिन धरना-प्रदर्शन अनुमति नहीं

समिट में मेहमानों के सामने किसी असहज स्थिति का सामना नहीं करना पड़े, इसके लिए प्रशासन सारे एहतियात बरत रहा है। प्रशासन ने 20 से 22 तक शहर में किसी तरह के धरना-प्रदर्शन या किसी बड़े सार्वजनिक कार्यक्रम की अनुमति ना देने का फैसला किया है। प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि बड़ी संख्या में अतिविशिष्ट मेहमान होंगे इसलिए इस तरह के कदम उठाए जा रहे हैं।

इनसेट

केबल कटने से प्रसारण और ब्रॉडबैंड प्रभावित

प्रशासन ने खंभों पर लगे केबल, तार और ऑप्टिकल फाइबर भी हटाने का निर्णय किया है। जिससे कई इलाकों में ब्रॉड बैंड और केबल प्रसारण ठप हो गया है। तमाम स्थानों पर से इसे उतारा जा रहा है तो कहीं पर काट दिया जा रहा है। एमएसओ डेन नेटवर्क, नेट विजन और सिक्का ब्रॉडबैंड के संचालकों का कहना है कि चार-पांच कंपनियों ने फाइबर आप्टिक और केबल पर करोड़ों रुपये लगाए हैं और इन्हें बेतरतीब तरीके से काटा जा रहा है। एमसओ सुनील जॉली ने इस बाबत डीएम को पत्र भी लिखा है।

By Jagran