सीतापुर, जेएनएन। विजय जुलूस में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने के मामले में पुलिस ने राष्ट्रद्रोह की धाराएं भी बढ़ा दी हैं। यही नहीं, पुलिस ने नवनिर्वाचित प्रधान और उसके चार समर्थकों को भी गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। बता दें कि थानगांव थाना क्षेत्र के बेलौता में नव निर्वाचित प्रधान के समर्थकों ने गांव में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए। जुलूस निकाला और खूब शोर-शराबा किया। इस कृत्य का वीडियो भी इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गया। इसके बाद भी थाना पुलिस मामले को दबाए रही। वायरल वीडियो जब क्षेत्रीय विधायक ज्ञान तिवारी के पास पहुंचा तो उन्होंने थानाध्यक्ष से कार्रवाई का अनुरोध किया। थानाध्यक्ष ने शांति भंग में मामले को दर्ज कर पल्ला झाड़ लिया। 

मामला अखबार की सुर्खियों में आया तो हिंदू संगठन भी आक्रोशित हो गए। आखिरकार थानाध्यक्ष अनिल कुमार ने सोमवार को संबंधित मुकदमे में आइपीसी की और धाराएं 124-अ और 505-ख बढ़ाई हैं। थानाध्यक्ष ने बताया, आरोपितों के विरुद्ध राष्ट्रद्रोह व जनाक्रोश भड़कने वाले कृत्य के आरोप में पूर्व के मुकदमे में धाराओं को जोड़ा गया है। यही नहीं, बेलौता गांव के नव निर्वाचित प्रधान असलम खां और उसके तीन समर्थक सलमान, अतीक व फरीद को गिरफ्तार जेल भेजा गया है।

पहले पुलिस कर रही थी हीलाहवाली: मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने धार्मिक भावनाएं भड़काने का मामला दर्ज किया था। इतना सबकुछ होने के बाद भी पुलिस टालमटोल कर रही थी। पुलिस की हीलाहवाली से लोगों में आक्रोश व्याप्त हो गया। हिंदू संगठनों ने इसका विरोध भी किया। प्रदर्शन के बाद अब पुलिस की आंखें खुली हैं।