लखनऊ, जेएनएन। केजीएमयू के मेधावियों को नया गोल्ड मेडल झटकने का मौका मिलेगा। इसके लिए नेत्र रोग विभाग में एक और मेडल बढ़ने जा रहा है। यह एनआरआइ चिकित्सक (अप्रवासी भारतीय) के नाम पर होगा। शुक्रवार को प्रस्तावित कार्यपरिषद की बैठक में मेडल को हरी झंडी मिल सकती है।

केजीएमयू में दीक्षा समारोह 25 अक्टूबर हो रहा है। ऐसे में यूजी, पीजी व सुपर स्पेशियलिटी के टॉपर्स की लिस्ट तैयार की जा रही है। संस्थान के प्रतिष्ठित पुरस्कार हीवेट, चांसलर व यूनिवर्सिटी ऑनर्स मेडल के मेधावियों के नाम गुरुवार को फाइनल हो सकते हैं। यह मेडल यूजी के टॉपर्स को मिलेंगे। वहीं नेत्र रोग विभाग में एमएस के टॉपर्स के लिए अभी तक डॉ. बलजीत भाटिया मेडल प्रदान किया जाता रहा है। अब 1956 बैच के डॉक्टर गिरीश चंद्रा के नाम पर भी गोल्ड मेडल देने का प्रस्ताव तैयार किया गया है। डॉ. गिरीश लंदन में रह रहे हैं। उन्होंने केजीएमयू आकर औपचारिकताएं पूरी कर दी हैं। तय पुरस्कार राशि भी जमा कर दी है। अब शुक्रवार को नए गोल्ड मेडल को शामिल करने का प्रस्ताव सोमवार को कार्यपरिषद में रखा जाएगा। इसके बाद मेडल सूची में शामिल हो जाएगा। दीक्षा समारोह में इस बार करीब 30 मेडल प्रदान किए जाएंगे। शेष मेडल व बुक प्राइज स्थापना दिवस पर दिए जाएंगे। केजीएमयू में लगभग 104 मेडल बांटे जाएंगे। इससे पहले 2017 में तीन मेडल शामिल किए गए थे।

ये मेडल हैं खास

एमबीबीएस के टॉपर : हीवेट, चांसलर व यूनीवर्सिटी ऑनर्स मेडल

बीडीएस के बेस्ट मेडल : एचडी गुप्ता मेमोरियल गोल्ड मेडल, डॉ . गोविला गोल्ड मेडल व डॉ. एमएन माथुर मेडल 

केजीएमयू में हर वर्ष साढ़े आठ सौ से अधिक छात्रों को दी जाती है डिग्री

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप