लखनऊ, जेएनएन। मीटरगेज के कारण तेज रेल नेटवर्क से कट चुके सीतापुर सहित कई जिलों में रेलवे तेज गति की मेमू ट्रेनें चलाएगा। रेलवे इन रूटों को अगले एक साल में रेल विद्युतीकरण से जोड़ देगा। जिसके बाद रूट पर सस्ता और तेज गति का सफर मेमू ट्रेनें कराएंगी। रेलवे ने रेल विद्युतीकरण और मेमू संचालन को लेकर अपना एक्शन प्लान तय कर दिया है। रेलवे बोर्ड ने एक्शन प्लान के तहत योजनाओं को पूरा करने का लक्ष्य भी निर्धारित कर दिया है।

रेलवे अभी ऐशबाग-सीतापुर रेलखंड का अमान परिवर्तन कर चुका है। जबकि पीलीभीत से सीतापुर के बीच दो चरणों का अमान परिवर्तन अगले साल तक पूरा होगा। इसे देखते हुए रेलवे ने डालीगंज से सीतापुर-मैलानी-भोजीपुरा होते हुए घटपुरा तक 327 रूट किलोमीटर का विद्युतीकरण दिसंबर 2019 तक पूरा करने की योजना बनायी है। रेल विद्युतीकरण का काम अमान परिवर्तन करने वाली संस्थान रेल विकास निगम लि. ही करेगा।  इसके अलावा मनकापुर-कटरा-अयोध्या तक 37.65 किलोमीटर रेलखंड के रेल विद्युतीकरण को 31 मार्च 2019 तक पूरा कर लिया जाएगा। कुल 40.65 करोड़ रुपये का यह काम रेलवे की संस्था कोर करेगी।

रेलवे मुख्य रूप से सीतापुर, लखीमपुर खीरी, मैलानी सहित आसपास के जिलों के लिए मेमू ट्रेनों की शुरुआत करेगा। इसके लिए रेल कोच फैक्ट्री को रेलवे बोर्ड ने नए रैक के उत्पादन करने का प्रस्ताव भी भेज दिया है। पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी संजय यादव का कहना है कि रेल मंत्रालय ने ऐसे रूटों पर रेल विद्युतीकरण करने का निर्णय लिया है जहां अभी डीजल इंजन दौड़ते हैं। सीतापुर रेलखंड पर रेल विद्युतीकरण के बाद ट्रेन संचालन तेज हो जाएगा। यात्री कम किराए में मेमू का तेज गति का सफर कर सकेंगे। यह काम अगले साल दिसंबर तक पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है।

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस