बलरामपुर, (रमन मिश्र)। नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने पिछले दिनों असली अयोध्या नेपाल के वीरगंज में होने व भगवान राम को नेपाली बताकर विवाद को जन्म दिया था, जिसे दरकिनार करते हुए नेपाल के बाङ्क्षशदे खुशियों के दीप जला रहे हैं। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर देशभर में खुशी की लहर है तो पड़ोसी राष्ट्र नेपाल के लोग भी उत्साह से लबरेज हैं। बलरामपुर सीमा से सटे नेपाल के दांग व कपिलवस्तु जिले के लोग राम मंदिर निर्माण को लेकर पचपेड़वा व गैंसड़ी में रहने वाले रिश्तेदारों से पल-पल की जानकारी ले रहे हैं। पांच अगस्त को भूमिपूजन को लेकर नेपाल में भी राम नाम की गूंज है।

नेपाल के घरों में जल रहे खुशी के दीये

नेपाल राष्ट्र के जिला रूपदेही निवासी सरिता सोमरे मगर का कहना है कि राम मंदिर निर्माण का जो सपना उनके पूर्वजों ने देखा था। पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के भूमिपूजन से वह और उनके पड़ोसी बेहद प्रसन्न हैैं। घरों में दीये जलाकर सभी खुशियां मना रहे हैं। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन खुलने के बाद वह अपने परिवार के साथ रामलला का दर्शन करने अयोध्या जाएंगी। बताया कि भारत में रहने वाले रिश्तेदारों से पता चलता रहता है कि अयोध्या में क्या हो रहा है।

...अखिरकार सत्य की हुई जीत

कपिलवस्तु जिले के कृष्णानगर निवासी भोजपुरी फिल्म अभिनेता श्याम कुमार मिश्र का कहना है कि राममंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन सत्य की विजय है। अयोध्या में पांच अगस्त के कार्यक्रम के बारे में फिल्म इंडस्ट्रीज के लोगों को भी अवगत कराया है। लॉकडाउन की वजह से रास्ता बंद है। वरना भोजपुरी फिल्मी दुनिया के सैकड़ों लोग इस पावन अवसर पर अयोध्या जरूर पहुंचते।

'भारत-नेपाल के बीच रोटी-बेटी का संबंध सदियों पुराना है। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के भूमिपूजन से हम सबकी मंशा फलीभूत हो रही है।' - अभिषेक प्रताप शाह, सांसद कपिलवस्तु 

Posted By: Anurag Gupta

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस