लखनऊ (जेएनएन)। नाभा जेल ब्रेक के मास्टरमाइंड गुरुप्रीत सिंह उर्फ गोपी घनश्यामपुरा को यूपी में छुड़ाए जाने के आरोप के मामले में एडीजी कानून-व्यवस्था आनन्द कुमार ने आखिरकार गुरुवार को अपनी जांच रिपोर्ट डीजीपी सुलखान सिंह को सौंप दी। सूत्रों के अनुसार एडीजी की जांच रिपोर्ट में गोपी को यूपी में छुड़ाए जाने व उसे लेकर किसी प्रकार के लेनदेन की पुष्टि से इन्कार किया है। हालांकि डीजीपी अभी जांच रिपोर्ट पर कुछ बोलने से कतरा रहे हैं। माना जा रहा है कि डीजीपी जांच रिपोर्ट का परीक्षण करने के बाद उसे सार्वजनिक करेंगे। 

यह भी पढ़ें: भाजपा ने निकाय चुनाव जीतने की बनाई रणनीति, प्रभारी घोषित

एडीजी आनन्द कुमार का कहना है कि उन्हें जांच के लिए एक सप्ताह का वक्त दिया गया था, जिसकी मियाद गुरुवार को पूरी हो रही है। उन्होंने जांच पूरी कर ली है और उसे समय अवधि में वरिष्ठ अधिकारियों को सौंप दिया जाएगा। चर्चा है कि एडीजी ने पंजाब से लौटने के बाद यहां आइजी स्तर के दो अधिकारियों से कई तथ्यों पर जानकारी हासिल की है। अधिकारी डीजीपी से भी मिले थे। ध्यान रहे, एडीजी ने गत दिनों पंजाब जाकर आरोपित कांग्रेस नेता संदीप तिवारी उर्फ पिंटू, अमनदीप सिंह व हरदीप सिंह कहलो से लंबी पूछताछ करने के साथ ही अन्य तथ्यों की भी गहनता से जांच की थी।

यह भी पढ़ें: सीमा पर सनसनीः भारत-नेपाल सीमा पर मिला तलवारों का जखीरा

नाभा जेल ब्रेक आरोपी बनवा रहा था फर्जी पासपोर्ट

पीलीभीत में बनवाए जा रहे दो फर्जी पासपोर्ट में एक पर नाभा जेल ब्रेक के आरोपित गुरजीत सिंह लड्डा के तस्वीर चस्पा की गई थी। पुलिस जांच में इसकी पुष्टि हुई है। वहीं आशंका है कि दूसरा पासपोर्ट परमजीत सिंह के नाम पर गुरुप्रीत सिंह उर्फ गोपी घनश्यामपुरा के लिए बनवाया जा रहा था। हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। पुलिस का कहना है कि अभी इसकी जांच की जा रही है। डीजीपी मुख्यालय ने फर्जी पासपोर्ट बनवाए जाने को लेकर दर्ज कराए गए मुकदमे की प्रगति रिपोर्ट तलब की है। पीलीभीत की पूरनपुर कोतवाली में 16 सितंबर को फर्जी पासपोर्ट बनवाए जाने को लेकर रिपोर्ट दर्ज की गई थी।

पासपोर्ट की अभी जांच चल रही 

बताया गया कि परमजीत सिंह व सुरजीत सिंह के फर्जी नाम-पते के प्रपत्रों को प्रयोग कर पासपोर्ट बनवाने का प्रयास किया जा रहा था। मामले में लापरवाही के आरोप में एचसीपी रणवीर सिंह सहित दो पुलिसकर्मियों को निलंबित भी किया गया था। आइजी लोक शिकायत विजय सिंह मीणा का कहना है कि जांच में सुरजीत सिंह के नाम से बनवाए जा रहे पासपोर्ट के प्रपत्रों में लगी तस्वीर का मिलान पंजाब के अपराधी गुरजीत सिंह लड्डा की फोटो से हुआ है। परमजीत सिंह के नाम से बनवाए जा रहे पासपोर्ट की अभी जांच चल रही है। उस पर किसकी तस्वीर लगी थी, इसकी तस्दीक अभी नहीं हो सकी है। पूरे मामले में पीलीभीत पुलिस कई बिंदुओं पर गहनता से जांच कर रही है। पीलीभीत पुलिस से विवेचना की प्रगति पूछी गई है। 

Posted By: Nawal Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस