रायबरेली, जेएनएन। धर्म छिपाकर मुस्लिम युवक ने हिंदू विधवा से शादी रचा ली। दोनों साथ में रहने लगे। इसी बीच रुपयों और जेवरों को लेकर मनमुटाव हुआ। विवाद बढ़ा तो महिला की गला दबाकर हत्या की कोशिश की गई। पुलिस ने आरोपित को हिरासत में लेकर छानबीन शुरू कर दी है। पूरे मामले पर पुलिस ने भी कार्रवाई की। पुलिस ने आरोपी पर 419, 420, 406, 323, 504 और 376 जैसी गंभीर धाराओं में गब्बर को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है।

पूरे साहब बक्श मजरे सेमरपहा गांव निवासी मो. गब्बर का गदागंज के चोखदार का पुरवा की रहने वाली महिला से फोन पर बात करने के दौरान संपर्क हो गया। अपने को बउवा लोध बताने वाले युवक का असली नाम गब्बर है और उसने अपना धर्म छुपा कर इस महिला से शादी कर ली थी।  शादी के बाद दोनों साथ रहने लग गए, लेकिन इस दौरान रुपये और पैसे को लेकर दोनों के बीच मनमुटाव हो गया जिसके बाद पूरा राज खुल गया।तीन बच्चों की मां, महिला के पति की मौत हो चुकी थी। काफी दिनों तक दोनों के बीच बातचीत होती रही। इस दौरान आरोपित हकीकत छिपाकर खुद का नाम बउवा लोध बताता रहा।

बातों-बातों में उसने महिला को अपने प्रेमजाल में फंसा लिया। इसके बाद गत 29 मई को जिला मुख्यालय स्थित देवी मंदिर में हिंदू रीति-रिवाज से शादी भी कर ली। दोनों राजी-खुशी रहने लगे। कुछ ही दिनों में इनके बीच रुपयों व गहनों को लेकर विवाद हो गया। मारपीट भी हुई। इस विवाद को खत्म कराने के लिए एक व्यक्ति बुलाया गया था।

मंदिर में इंतजार कर रहे थे, पहुंच गई पुलिस

बेहटा चौराहा स्थित हनुमान मंदिर में बैठकर दोनों पक्ष सुलह के लिए आने वाले व्यक्ति का इंतजार कर रहे थे। इसी बीच कुछ व्यापारियों व स्थानीय लोगों को इसकी भनक लग गई। मौके पर तमाम लोग एकत्र हो गए। इसके बाद जानकारी पुलिस को हुई और दोनों कोतवाली पहुंच गए।

महिला का आरोप, की गई जालसाजी

महिला का कहना है कि उसे धोखे में रखकर यह शादी की गई है। विवाह के बाद गब्बर ने उससे नगदी और ढाई लाख के जेवर ले लिए। जब उसके धर्म और नाम की जानकारी हुई जेवर व रुपये मांगे। इस पर वह गाली-गलौज करने व धमकाने लगा। गला दबाकर हत्या की भी कोशिश की। कोतवाल अरुण कुमार सिंह ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है । 

Edited By: Anurag Gupta