लखनऊ, जेएनएन। बीबीडी कॉलेज के बीटेक द्वितीय वर्ष के छात्र प्रशांत सिंह के हत्याकांड में शामिल मुख्य साजिशकर्ता अमन बहादुर को पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार किया। अमन बहादुर खीरी की धौरहरा सीट से पूर्व बसपा विधायक शमशेर बहादुर का बड़ा बेटा है। प्रशांत सिंह की हत्या के बाद अमन बहादुर ने पिता को फोन भी किया था। वहीं इस मामले में पुलिस ने पांच हत्यारोपियों की पहचान कर ली है। इस हत्याकांड में शामिल सभी हत्यारोपियों पर एनएसए लगाने की तैयारी है। 

वाराणसी का रहने वाला प्रशांत सिंह बीबीडी कॉलेज का बीटेक द्वितीय वर्ष का छात्र था। वह गोमतीनगर के विजयंत खंड में अपने साथियों आलोक यादव, सभय मिश्र और विकास सिंह के साथ रहता था। गुरुवार को आलोक का जन्म दिन था। जिसकी पार्टी बुधवार देर रात सफेदाबाद के एक होटल में रखी गई। जहां प्रशांत सिंह की बीटेक प्रथम वर्ष के साथ अर्पण शुक्ल उर्फ टाइगर से मारपीट हुई थी। गुरुवार को आलोक के जन्मदिन पार्टी के लिए मुंहबोली बहन को लेने गोमतीनगर विस्तार के अलकनंदा अपार्टमेंट आए प्रशांत की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई थी।

इस घटना के बाद आलोक की ओर से अर्पण सहित पांच लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कराया गया था। आलोक, सभय मिश्र और विकास सिंह से पुलिस की पूछताछ के बाद घटनास्थल पर एक मोबाइल नंबर पुलिस ने ट्रेस किया। घटनास्थल से ही इस नंबर से जो फोन किया गया वह खीरी के पूर्व विधायक शमशेर बहादुर का निकला। आलोक और उसके साथियों ने मोबाइल नंबर अमन बहादुर का बताया। पुलिस ने जानकीपुरम स्थित पूर्व विधायक के घर पर दबिश दी। जहां अमन बहादुर हाथ न आया। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने पूर्व विधायक से उनके बेटे अमन बहादुर को लेकर घंटों पूछताछ की। पूछताछ के आधार पर उनके बेटे अमन बहादुर को शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में पता चला है कि अमन बहादुर ने प्रशांत सिंह हत्याकांड की साजिश रची है।

पांच और की पहचान

अमन बहादुर से हुई पूछताछ के आधार पर पुलिस ने इस हत्याकांड में शामिल मुख्य आरोपी अर्पण उर्फ टाइगर के अलावा विमल सिंह, अब्दुल गनी खान, अंजनी यादव, अभिषेक पांडेय और हार्दिक की भी पहचान की है। विमल सिंह के पिता अधिवक्ता हैं।

सभी पर लगेगा एनएसए

प्रशांत सिंह की हत्या की सूचना मिलने के बाद उनके पिता वाराणसी में अधिवक्ता प्रदीप सिंह की तबियत बिगड़ गई। जिस कारण वह लखनऊ नहीं आए। उनकी जगह परिवार के कई सदस्य लखनऊ पहुंचे। पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय से उन्होंने मुलाकात की। जिस पर कमिश्नर ने सभी आरोपियों पर एनएसए भी लगाने का आश्वासन दिया। देर शाम कमिश्नर ने अमन बहादुर सहित सभी आरोपियों के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई के भी आदेश दिए। 

सुबह ही मिली थी हत्या की धमकी

प्रशांत सिंह के मोबाइल फोन पर गुरुवार सुबह ही धमकी भरी कॉल आयी थी। आलोक यादव ने पुलिस को पूछताछ में बताया है कि प्रशांत को सुबह किसी ने धमकी दी थी कि आज शाम से पहले तुम्हारी हत्या कर दी जाएगी। इसके बाद प्रशांत को सचेत रहने को कहा था। प्रशांत के साथ उसके दोस्त सभय मिश्र के मोबाइल पर भी धमकी दी गई थी।

पसली चीरकर हार्ट में धंसा चाकू

प्रशांत सिंह की मौत पसली के भीतर हार्ट में चाकू के कई गहरे मार के कारण हुई थी। हार्ट पर चाकू से कई बार वार के कारण वह फट गया था। जिस कारण बहुत ज्यादा खून बह गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में प्रशांत सिंह के शरीर में सीने के पास कई घाव हैं। जबकि प्रशांत के हाथ में भी चाकू के घाव मिले हैं। माना जा रहा है कि जब हमलावर पेट और सीने पर चाकू से हमला कर रहे थे तो खुद को बचाने के लिए प्रशांत सिंह ने हाथ से उसे रोकने की कोशिश की थी। दोपहर को पोस्टमार्टम के बाद शव प्रशांत के वाराणसी स्थित घर भेज दिया गया।  

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस