लखनऊ (जेएनएन)।  पूर्व सांसद दर्शन सिंह यादव को श्रद्धांजलि देने समाजवादी पार्टी के मुख्यालय पहुंचे मुलायम सिंह यादव अखिलेश यादव की सराहना करना नहीं भूले। सियासी चर्चा करने से मुलायम भले ही इन्कार किया लेकिन, कई माह बाद उनके सपा कार्यालय जाने के राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं।
गुरुवार को पार्टी मुख्यालय में पूर्व सांसद दर्शन सिंह यादव के निधन पर दोपहर दो बजे शोकसभा आयोजित की गई।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की अनुपस्थिति में श्रद्धांजलि सभा में नेता विरोधी दल राम गोविंद चौधरी, नरेश उत्तम पटेल, अरविंद कुमार सिंह, सुनील सिंह साजन, संजय सेठ, फाकिर सिद्दीकी, आशु मलिक, विजय यादव, अशोक यादव, अशोक चौधरी, फिदा हुसैन अंसारी, जुगल किशोर बाल्मीकि भी मौजूद थे। मुलायम के करीबी रहे दर्शन सिंह को पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद उनके संस्मरण भी बताए गए।

मुलायम सिंह यादव ने कहा कि दर्शन सिंह उनके घनिष्ठ मित्र थे। कुछ विषयों पर मतभेद भी रहे परंतु अपनी मित्रता में फर्क नहीं आने देते थे। शिक्षा और समाज सेवा के क्षेत्र में उनके योगदान की सराहना करते हुए मुलायम ने दर्शन सिंह को गरीबों का सच्चा हमदर्द बताया। इस दौरान दो मिनट मौन रख दिवंगत की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की गई।


करीब एक घंटा समय मुलायम सिंह ने कार्यालय में बिताया और वहां चल रहे निर्माण कार्यों को भी देखा। उन्होंने कार्यालय के आधुनिकीकरण को लेकर अखिलेश की सराहना भी की। कहा कि नए संसाधनों के प्रयोग से संगठन को लाभ मिलेगा। शिवपाल के सेक्युलर मोर्चा के बारे के पूछने पर मुलायम सिंह ने टिप्पणी से इन्कार किया। उनका कहना था कि राजनीति के बारे में आज कोई चर्चा नहीं होगी। मोर्चे को लेकर उनके जो भी विचार हैं, उसे लिख कर गंगाराम को दे दिया है, गंगाराम कल इस बारे में बता देंगे।


दूरी के संकेत : शिवपाल यादव द्वारा सेक्युलर मोर्चा गठन के अगले दिन ही मुलायम सिंह के समाजवादी पार्टी के दफ्तर जाने के सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। माना जा रहा है कि मुलायम ऐसा कोई कदम नहीं उठाएंगे जिससे अखिलेश को सीधा नुकसान हो। ऐसे में शिवपाल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। उनको मुलायम सिंह का साथ मिलने की उम्मीद भी कमजोर होगी।

शिवपाल यादव ने दी बेटे अादित्य को बड़ी जिम्मेदारी मिलने के संकेत
वहीं शिवपाल यादव ने अाज अपनी नई पार्टी सेक्युलर मोर्चा बनाने के बाद के एक दिन बाद ही फार्म में आ गए। उन्होंने विस्तार का काम तेज कर दिया है। पार्टी में बेटे आदित्य को भी बड़ी जिम्मेदारी मिलेगी, इसका संकेत शिवपाल सिंह यादव ने दे दिया है।

शिवपाल सिंह यादव के जितने भी समर्थक समाजवादी पार्टी में हैं, उनके बीच भी समाजवादी सेक्युलर मोर्चा की चर्चा शुरू हो गई है। कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र में पार्टी को विस्तार देने के लिए शिवपाल यादव के बेटे आदित्य यादव आज कानपुर आ रहे हैं। वह कई स्थानों पर समर्थकों के साथ बैठक भी करेंगे।

समाजवादी पार्टी की मुख्य धारा से जिस समय शिवपाल यादव को किनारे किया गया था, उसी समय से उनके समर्थक दो राहे पर चल रहे थे। किधर जाना है इसके लिए वे अपने नेता के फैसले का इंतजार रहे थे।

Posted By: Dharmendra Pandey