लखनऊ, जेएनएन। केजीएमयू का दीक्षा समारोह नजदीक है। वहीं टॉपर्स के चयन में बड़ी गड़बड़ी उजागर हुई। विभाग के वरिष्ठ शिक्षक ने उल्फत गोल्ड मेडल में मेधावी के बजाए दूसरे के नाम की सिफारिश कर दी। वहीं मेडल सूची देखकर सर्वोच्च अंक हासिल करने वाला मेधावी चकरा गया। ऐसे वह में वह प्रतिकुलपति के पास पहुंचा। बोला मैडम, टॉप हमने किया, मेडल दूसरे छात्र को कैसे दिया जा रहा है। इसके बाद हड़कंप मच गया। 

केजीएमयू में 25 अक्टूबर को दीक्षा समारोह है। करीब 46 मेधावियों को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल मेडल पहनाएंगी। ऐसे में नौ अक्टूबर को प्रति कुलपति प्रो. मधुमति गोयल व डीन डॉ. विनीता दास ने मेधावियों की मेडल लिस्ट जारी की। ऐसे में बाल रोग विभाग में एमडी पीडियाट्रिक्स के बेस्ट स्टूडेंट के मेडल में टॉपर्स के बजाए दूसरे छात्र के नाम की घोषणा कर दी गई। मेधावी खुद के सर्वोच्च अंक व मेडल लिस्ट में दूसरा नाम देखकर चकरा गया। वह प्रतिकुलपति प्रो. मधुमति गोयल के पास पहुंचा। उसने कहा कि मैडम टॉप हमने किया है, गोल्ड मेडल दूसरे के नाम कैसे हो गया। यह सुनकर प्रतिकुलपति हतप्रभ हो गईं। उन्होंने गोल्ड मेडल के लिए नाम भेजने वाली शिक्षक से जवाब-तलब किया। ऐसे में अंकों का मिलान किया गया। अंक तालिका के मिलान में ठाकुर उल्फत सिंह गोल्ड मेडल में गफलत उजागर हुई। 

वाई किरण का मेडल आशुतोष को

प्रति कुलपति प्रो. मधुमति गोयल के मुताबिक एमडी पीडियाट्रिक्स में ठाकुर उल्फत सिंह गोल्ड मेडल बेस्ट स्टूडेंट को दिया जाता है। विभाग की शिक्षिका ने नाम डॉ. आशुतोष कपूर का भेजा था। वहीं दूसरे छात्र की शिकायत पर जांच की गई तो डॉ. वाई कपूर को मेडल देने पर फैसला किया गया। मेडल की संशोधित लिस्ट जारी कर दी गई।

बीडीएस के टॉपर्स तय नहीं

केजीएमयू में दीक्षा समारोह नजदीक है। बावजूद बीडीएस का परीक्षा परिणाम जारी नहीं हुआ है। ऐसे में टॉपर्स की घोषणा नहीं हो सकी। 

 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस