लखनऊ (जेएनएन)। गोमती रिवर फ्रंट परियोजना में भ्रष्टाचार और गड़बड़ी के लिए चिह्नित इंजीनियरों, अधिकारियों की सजा तय करने से पहले नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना की अध्यक्षता में गठित समिति बुधवार सुबह मौका-मुआयना करने पहुंची।

यहां उन्होंने अधिकारियों से पूछताछ की। जांच के लिए अपर मुख्य सचिव संजीव सरन भी पहुंचे गोमती रिवर फ्रंट। गोमती रिवर फ्रंट पर 15 जून तक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को रिपोर्ट सौंपी जानी है। गौरतलब है कि इससे पहले सीएम योगी ने भी गोमती रिवर फ्रंट का दौरा किया था।

यह भी पढ़ें: इलाहाबाद में जख्मी व्यापारी की मौत पर बाजार बंद, लगाया जाम

यहां उन्होंने अधिकारियों को फिजूलखर्च के लिए फटकार भी लगाई थी। उन्होंने सख्त हिदायत देते हुए कहा था कि इस तरह का बेवजह खर्च अब किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा था कि इसके लिए जो भी जिम्मेदार हैं उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें: यूपी में शादी को लेकर योगी सरकार का बड़ा फैसला, ​पढ़िए यहां

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस