लखनऊ, जेएनएन। अल्पसंख्यक कल्याण एवं हज राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने लखनऊ हज हाउस का नाम पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर रखने का प्रस्ताव किया है। अभी हज हाउस का नाम मौलाना अली मियां के नाम पर है। उन्होंने गाजियाबाद हज हाउस का नाम मौलाना अबुल कलाम आजाद व वाराणसी हज हाउस का नाम भारत रत्न उस्ताद बिस्मिल्लाह खां के नाम पर रखने का प्रस्ताव हज समिति से मांगा है।

मोहसिन रजा बुधवार को अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ विभाग की योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हज हाउस का नाम ऐसे महापुरुषों के नाम पर होना चाहिए, जो पूरे देश के आदर्श हों। लखनऊ हज हाउस का नाम सपा सरकार ने अली मियां के नाम पर रख दिया था। यह देश के सभी मुसलमानों के आदर्श नहीं हो सकते हैं। उन्होंने हज समिति को जल्द नाम बदलने का प्रस्ताव भेजने के लिए कहा है।

जन विकास योजना के लिए जमीन कराई जाए उपलब्ध: नंदी

अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने प्रधानमंत्री जन विकास योजना के तहत संचालित विभिन्न परियोजनाओं के लिए भूमि की उपलब्धता तत्काल सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में 'हर घर जल, हर घर नल' की परियोजना के क्रियान्वयन में किसी भी तरह की लापरवाही एवं शिथिलता क्षम्य नहीं होगी। लापरवाही होने पर संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जिलों में संचालित छात्रवृत्ति योजना तथा पुत्री शादी योजना में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। मदरसा पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकृत मदरसों में से 4920 मदरसे जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी के स्तर से सत्यापित नहीं है, उनके सत्यापन की कार्यवाही 15 दिन के अंदर सुनिश्चित की जाए। 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस