जागरण संवाददाता, लखनऊ : लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान मे सुबह नौ बजे मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआइ) की टीम पहुची। उन्होने तैनात डॉक्टरो को विभागवार तलब किया। साथ ही हर वार्ड का निरीक्षण किया। लोहिया संस्थान को एमबीबीएस पाठ्यक्रम की हरी झंडी 2017 मे मिली थी। यहां कुल 150 सीटें है। प्रथम वर्ष की कक्षाएं जारी है। वही दूसरे बैच के लिए टीम ने दूसरी बार दौरा किया। इसमे दरभंगा, कोलकता, व असम के सदस्य टीम मे शामिल थे। टीम सबसे पहले नौ बजे प्रशासनिक भवन पहुंची। यहां निदेशक डॉ. दीपक मालवीय के साथ दूसरे बैच संबंधी मानको को लेकर जानकारी ली। वही चिकित्सा अधीक्षक डॉ. सुब्रत व डॉ. भटनागर ने एकेडमिक ब्लॉक का भ्रमण कराया। इस दौरान डॉक्टरो की तैनाती का ब्योरा तलब किया। ऐसे मे टीम के समक्ष संबंधित चिकित्सको को हाजिर होना पड़ा। नौ घंटे तक चली छानबीन लोहिया संस्थान मे टीम ने ओपीडी, एकेडमिक ब्लॉक, माइक्रोबायोलॉजी, पैथोलॉजी, वार्ड, इमरजेसी, ओटी व डॉक्टरो के कक्षो का दौरा किया। इसके बाद लोहिया अस्पताल भी टीम गई। यहां भी मरीजो का ब्योरा, डॉक्टर की मौजूदगी व अन्य मानक जांचे। शाम छह बजे तक टीम संस्थान मे जांच करती रही।