लखनऊ (बेब डेस्क)। बहुजन समाज पार्टी से वरिष्ठ नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के किनारा कर लेने के बाद पार्टी की मुखिया मायावती डैमेज कंट्रोल में जुटी है। मायावती आज लखनऊ में विधायकों के साथ बैठक कर स्वामी प्रसाद मौर्य का विकल्प तलाशने के साथ ही उनके कारनामों को पार्टी में उजागर करेंगी।

मायावती आज पार्टी कार्यालय में विधानमंडल दल के नेताओं के साथ बैठक करेंगी। सभी विधायकों की इसमें उपस्थिति अनिवार्य कर दी गई है। स्वामी प्रसाद मौर्य के पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा देने के बाद उनके समर्थित कार्यकर्ता भी ऐसा कर सकते हैं। इसी वजह से मायावती ने यह बैठक बुलाई है। इस बैठक में मायावती स्वामी प्रसाद मौर्या के कारनामों को पार्टी नेताओं के साथ साझा करेंगी।

यह भी पढ़ें-स्वामी प्रसाद मौर्य पुराना दल बदलू और मुलायम का साथी : मायावती

इतना ही नहीं पार्टी में एकजुटता बनी रहे इसका आवश्यक दिशा निर्देश भी जारी हो सकता है। मौर्य ने पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है लेकिन नेता प्रतिपक्ष के पद से अभी इस्तीफा नहीं दिया है। इसी बैठक में नेता प्रतिपक्ष का भी चयन किया जाएगा. माना जा रहा है बांदा से विधायक चरण दिनकर को नेता प्रतिपक्ष बनाया जा सकता है। दिनकर को मायावती का करीबी माना जाता है।

मायावती के तेवर नरम, विधायक हरमिंदर साहनी 'रोमी' की वापसी

स्वामी प्रसाद मौर्य की बगावत के बाद पार्टी सुप्रीमो मायावती के तेवर नरम पड़ गए है। अनुशासनहीनता के चलते चार दिन पहले ही पार्टी से निकाले गए विधायक हरमिंदर कुमार साहनी उर्फ रोमी की शुक्रवार को वापसी का एलान कर मायावती ने डैमेज कंट्रोल की कोशिशें शुरू कर दी हैं। मौर्य के तेवरों से बैक फुट पर आयी बसपा ने अपने सुराख भरने की शुरुआत कर दी है। असंतोष न भड़के इसी कारण नाराज कार्यकर्ताओं की मान- मनौव्वल भी शुरू हो गई है।

यह भी पढ़ें- स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपा से नाता तोड़ा, मायावती पर जड़ा टिकट बेचने का आरोप

शुरुआत पलिया क्षेत्र के विधायक हरमिंदर साहनी उर्फ रोमी की बहाली से हुई है। पार्टी महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि रोमी साहनी के अपनी गलती मान लेने के बाद उनको पार्टी में वापस ले लिया गया है। पांच दिन पहले बसपा प्रमुख ने अनुशासनहीनता के आरोप में हरदोई की मल्लावां सीट से विधायक ब्रजेश कुमार व लखीमपुर खीरी की पलिया सीट के विधायक हरविंदर कुमार साहनी उर्फ रोमी को पार्टी से निकाल दिया था।

यह भी पढ़ें- मायावती और मुलायम एक ही सिक्के के दो पहलू : साक्षी

साथ पूर्व एमएलसी अरविन्द त्रिपाठी उर्फ गुड्डू त्रिपाठी व लखीमपुर के राजेश वाल्मीकि को भी निकाला गया था। आज मायावती टिकट कट जाने के डर से आशांकित विधायकों को अभयदान भी देंगी। इसके अलावा कोर्डिनेटर और जिला अध्यक्षों को अपने क्षेत्रों में निगाह रखने के निर्देश दिए गए है।

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस