लखनऊ, जेएनएन। केजीएमयू में महिला तीमारदार ही नहीं कर्मी व छात्राओं की अस्मिता भी खतरे में है। शताब्दी में गैंगरेप से लेकर कैंपस में कई महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की घटना हुईं। मगर, अफसरों के ढुलमुल रवैये के चलते अपने ही संस्थान का दामन दागदार करते रहे।

गार्ड-लिफ्टमैन ने किया गैंगरेप

11 जून 2017 को शताब्दी-फेज वन में रात को महिला तीमारदार के साथ गैंगरेप किया गया। रात दस बजे महिला के साथ वारदात हुई। वह चीखती रही मगर अफसर सोते रहे। मामला तूल पकडऩे पर अगले दिन पुलिस ने गार्ड, वार्ड ब्वॉय व लिफ्टमैन को जेल भेजा।   

आठ महिला कर्मियों से अश्लील हरकत 

19 अप्रैल 2019 को केजीएमयू के लिंब सेंटर स्थित गठिया रोग विभाग की आठ महिला कर्मियों ने एक पुरुषकर्मी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। कुलपति-कुलसचिव को शिकायती पत्र में विभाग के पुरुष कर्मी पर अभद्रता, अश्लीलता करने की दास्तां बया थीं। मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

यह भी पढ़ें : KGMU में किशोरी से छेड़छाड़ करने वाला डॉक्टर निलंबित, वार्ड ब्वॉय को हटाया 

प्रशिक्षण के वक्त छात्राओं से छेड़खानी 

कार्डियोलॉजी में गत वर्ष 20 पैरामेडिकल छात्राओं ने छेड़खानी का आरोप लगाया था। यहां एक ईसीजी टेक्नीशियन प्रशिक्षण देने के बहाने स्टूडेंट के साथ गलत व्यवहार करता था। मामले की लिखित शिकायत की गई। जांच की खानापूर्ति कर मामला रफा-दफा कर दिया गया।

जूनियर डॉक्टर के साथ अभद्रता

वर्ष 2018 में डेंटल विभाग के एक डॉक्टर पर भी जूनियर महिला डॉक्टर ने अभद्रता का आरोप लगाया। यहां भी मामला रफादफा कर दिया गया। ऐसे ही अन्य विभागों में भी मामले प्रकाश में आए। मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई। 

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप