लखनऊ, जेएनएन। रेलवे नए टाइम टेबल में जिन नौ ट्रेनों के रूट बदलने जा रहा है, उनमें से तीन का रूट हजारों यात्रियों की मुसीबत बढ़ा देगा। यह तीनों सुलतानपुर और फैजाबाद रूट की महत्वपूर्ण ट्रेनें हैं। ऐसे में यात्रियों ने इनके रूट न बदलने की मांग की है।

दरअसल, कई जोनल रेलवे मुख्यालय ने अपने यहां की कुल 50 ट्रेनों के रूट बदलने की संस्तुति की थी। रेलवे का तर्क था कि इससे कई व्यस्त रूट से लोड कम हो जाएगा। साथ ही इनकी दूरी कम होने से समय भी बचेगा। रेलवे ने सुलतानपुर और फैजाबाद होकर आने वाली दस ट्रेनों के रूट बदलने के आदेश दिए हैं। इनमें वाराणसी-जम्मूतवी बेगमपुरा एक्सप्रेस भी शामिल थीं। पिछले दिनों सुलतानपुर लंभुआ के भाजपा विधायक देवमणि ने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव से मुलाकात की थी। इसकेबाद बेगमपुरा का रूट बदलने का आदेश निरस्त कर दिया गया, जबकि सुलतानपुर होकर संचालित सबसे अधिक स्टेशनों पर ठहराव वाली ट्रेन हावड़ा-अमृतसर एक्सप्रेस, फैजाबाद होकर गंगा सतलज एक्सप्रेस और दून एक्सप्रेस को वाया प्रतापगढ़ चलाने के आदेश दे दिए गए हैं। हावड़ा-अमृतसर एक्सप्रेस छोटे स्टेशनों पर ठहराव वाली एकमात्र ट्रेन है, जो वाराणसी होकर रोज गुजरती है। जबकि, इस रूट पर दूसरी ट्रेन फरक्का एक्सप्रेस है, जो प्रतिदिन नहीं चलती है। वरुणा एक्सप्रेस का ठहराव छोटे स्टेशनों पर नहीं है। इसी तरह फैजाबाद के लिए दून एक्सप्रेस के बाद गंगा सतलज एक्सप्रेस ही ट्रेन है। इनकेरूट बदलने पर फैजाबाद के लिए दोपहर में ट्रेनों का विकल्प ही नहीं बचेगा।

ऐसे में फैजाबाद से आगे की यात्रा के लिए यात्रियों को समस्या का सामना करना पड़ेगा। यात्री सुमेश शर्मा बताते हैं कि दून और गंगा-सतलज एक्सप्रेस फैजाबाद रूट की महत्वपूर्ण ट्रेनें हंै। इनके रूट बदलने से सुबह फैजाबाद का विकल्प ही खत्म हो जाएगा।

 

Posted By: Anurag Gupta

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस