लखनऊ[जागरण संवाददाता]। जनता एक्सप्रेस में एक चोर ने अधिवक्ता का मोबाइल फोन चुरा लिया। मोबाइल फोन को शौचालय ले गया और वहां अपनी सेल्फी खींच ली। मोबाइल अब भी भले ही चोर के पास है, लेकिन उसकी फोटो सेल्फी के चक्कर में जीआरपी तक पहुंच गई है। जीआरपी ने मामले की जांच शुरू कर दी है। पीजीआइ के सरस्वतीपुरम निवासी अधिवक्ता उत्कर्ष यादव परिवारीजनों के साथ जनता एक्सप्रेस के एस-3 कोच में हरिद्वार से लखनऊ आ रहे थे। उत्कर्ष के मुताबिक, करीब रात 11 बजे तक वह अपना मोबाइल फोन इस्तेमाल कर रहे थे। इसके बाद उनको नींद आ गई और वह सो गए। बरेली में सुबह 3:30 बजे आंख खुली तो उनका मोबाइल फोन गायब था। काफी तलाश के बाद जब मोबाइल फोन का पता न लगा तो उन्होंने इसकी जानकारी अपने भाई को दी। भाई ने जब उनके नंबर पर कॉल की तो घटी जा रही थी, लेकिन थोड़ी देर बाद मोबाइल बंद हो गया। गूगल ड्राइव में सेव चोर की सेल्फी

लखनऊ पहुंचने पर जब जीमेल अकाउंट खंगाला तो उनके मोबाइल से ली गई एक सेल्फी गूगल ड्राइव में सेव मिली। जब तस्वीर की डिटेल चेक की तो पता चला कि चोर ने ये तस्वीर रात 12:58 बजे ट्रेन के शौचालय में ली है। उसके साथ एक युवक और खड़ा हुआ है। उत्कर्ष ने चोर की तस्वीर जीआरपी को सौंप दी है। क्या कहना है जीआरपी का?

सीओ जीआरपी अमिता सिंह ने बताया कि तस्वीर से चोर को पकड़ने में काफी मदद मिलेगी। उसकी तस्वीर सभी जीआरपी थानों को भेजी जाएगी। जीआरपी ने पकड़े मोबाइल चोर

डंडा मारकर चलती ट्रेन से यात्रियों के मोबाइल गिराने वाले दो चोरों को जीआरपी ने पकड़ा। मवैया आउटर पर ट्रेन की गति कम होते ही चोर ट्रेन के दरवाजे या फिर खिड़की के पास बात कर रहे यात्रियों के हाथ पर डंडा मारकर मोबाइल गिरा देते थे और लेकर भाग जाते थे। चौकी इंचार्ज एनईआर जनमेजय सिंह ने एक अटैची चोर दिनेश कुमार को पकड़ा। इसके पास से कई बैग व अटैचिया बरामद हुई हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप