लखनऊ, जेएनएन। केजीएमयू परिसर स्थित हाजी हरमन शाह मजार के पास मंगलवार दोपहर में एक शख्स ने लाइसेंसी रिवॉल्वर से सिर में गोली मार ली। सी-ब्लॉक राजाजीपुरम निवासी विनोद कुमार रावत बेटी की बीमारी से काफी वक्त से परेशान थे। एसीपी चौक डीपी तिवारी के मुताबिक अवसाद में आकर विनोद ने गोली मारी। उन्होंने ट्रामा सेंटर में देर शाम उन्होंने दम तोड़ दिया।

विनोद की बेटी मुस्कान ने बताया कि उसकी और मां की तबीयत अक्सर खराब रहती है। बीते 40 दिन से उसके पिता उन्हें लेकर केजीएमयू स्थित हाजी हरमैन शाह के यहां रुके थे। मंगलवार दोपहर में उसके विनोद ने लाइसेंसी असलहा निकाल लिया और कहने लगे कि अगर हाजी शाह ने उनकी बेटी को ठीक नहीं किया तो वह खुद को गोली मार लेंगे। यह सुनकर मुस्कान और उसकी मां मजार से बाहर निकल आए। इसी बीच गोली चलने की आवाज आई। दोनों दौड़कर पहुंचे तो विनोद लहूलुहान पड़े थे। पीडि़त परिवार की सूचना पर पुलिस पहुंची।

पहले भी कहते थे जान देने की बात

मुस्कान ने पुलिस को बताया कि उसके पापा पहले भी खुद को गोली मारने की बात कहते थे। वह अक्सर कहा करते थे कि अगर उनकी बेटी ठीक नहीं हुई तो वह अपनी जान दे देंगे। मंगलवार को भी वह यही बात दोहरा रहे थे। पता नहीं था सच में ऐसा कदम उठा लेंगे।

बार-बार होता था हादसा

पूछताछ में मुस्कान की मां ने पुलिस को बताया कि आए दिन उनके परिवार में कोई न कोई हादसा होता था। कभी विनोद तो कभी मुस्कान सीढिय़ों से गिरकर घायल हो जाते थे। अनहोनी की आशंका को लेकर विनोद मानसिक तनाव में थे।

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस