लखनऊ, जेएनएन। इंदिरानगर स्थित यूनिवर्सल बुक डिपो के कर्मचारी जय प्रकाश शुक्ला (46) की गुरुवार सुबह संदिग्ध हालात में मौत हो गई। वह चारबाग प्लेट फार्म नंबर तीन के हाल नंबर दो के पास अचेत पड़ा मिला था। परिवारीजनों ने हत्या की आशंका जताते हुए जांच की मांग की है। पोस्टमॉर्टम में सिर पर एक चोट मिली है। इसके अलावा मौत का कारण स्पष्ट न होने के कारण विसरा सुरक्षित किया गया है। 

बाराबंकी निवासी जय प्रकाश शुक्ला गुरुवार सुबह चारबाग प्लेट फार्म नंबर तीन के पास बने हाल नंबर दो के समीप अचेत अवस्था में पड़ा मिला। जीआरपी ने उसे सिविल भेजा और पास से मिले मोबाइल से परिवारीजनों को सूचना दी। सिविल में डॉक्टरों ने जय प्रकाश को मृत घोषित कर दिया। जय प्रकाश के बड़े भाई ओमप्रकाश ने बताया कि भाई अपनी पत्नी विमलेश दो बेटे हर्षित और अर्पित के साथ त्रिवेणीनगर तृतीय में रह रहा था।

रात भाई अपनी दुकान से कुछ स्टेशनरी के बंडल लेकर बोलेरो चालक अनिल और सहकर्मी जेपी सिंह के साथ चारबाग स्टेशन गया था। वहां, से चालक और सहकर्मी भाग निकला और भाई अचेत अवस्था में पड़ा मिला। ओमप्रकाश ने हत्या का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की है। मौत के बाद भाई के दोनों साथियों का भी कुछ पता न चला। 

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप