लखनऊ (जेएनएन)। उत्तर प्रदेश में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। सपा राज में महिला सुरक्षा के लिए कुछ नहीं किया गया। आज भी महिलाओं को रात में सड़कों पर निकलने में डर लगता है। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस इसको मुद्दा बनाने जा रही है। इस दौरान आज से उत्तर प्रदेश में शुरू हो वाली कांग्रेस की राहुल संदेश यात्रा शुरू नहीं हो सकी। बताया गया है कि तैयारियां पूरी नहीं होने के कारण कार्यक्रम में कुछ बदलाव किया गया है।पहले पंद्रह दिन तक चलने वाली इस यात्रा की अवधि अब घटाकर 13 दिन कर दी गई है।

पढ़ें- कैदियों के कब्जे में जिला जेल गोरखपुर, माहौल बेहद तनावपूर्ण

आज शुरू नहीं हो सकी राहुल संदेश यात्रा

कांग्रेस की राहुल संदेश यात्रा कार्यक्रम में बदलाव कर अब 15 अक्टूबर से यात्रा आरम्भ करने का फैसला लिया गया। हालांकि समापन 27 अक्टूबर को ही होगा। राहुल संदेश यात्रा में अचानक किए बदलाव की जानकारी देते हुए कांग्रेस कम्युनिकेशन विभाग के चेयरमैन और पूर्व मंत्री सत्यदेव त्रिपाठी ने बताया कि 13 से 27 अक्टूबर तक प्रदेश के सभी 75 जिलो में निकाली जाने वाली राहुल संदेश यात्रा अब 15 से 27 अक्टूबर तक निकाली जाएगी। राहुल गांधी की किसान यात्रा का समापन होने के बाद किसानों के बीच कांग्रेस का संदेश देने के लिए यात्रा का निर्णय लिया गया है।

जिलों तक न पहुंच सकें संदेश रथ

राहुल संदेश यात्रा में प्रयोग किए जाने वाले विशेष वाहनों को सभी 75 जिलों में 12 अक्टूबर तक पहुंचाया जाना था और यह जिम्मेदारी प्रशांत किशोर टीम को सौंपी गयी थी। बता दे कि राष्ट्रीय महासचिव गुलाम नबी आजाद ने यात्रा का विधिवत शुभारंभ गत शुक्रवार को प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर, प्रमोद तिवारी, संजय सिंह और डा. निर्मल खत्री की मौजूदगी में किया गया था। इस यात्रा में भी राहुल गांधी द्वारा किसान यात्रा उठाए मुद्दों को चौपाल तक पहुंचाया जाएगा। इस मुहिम के लिए 17 सीटों वाली 75 गाडिय़ां लगायी हैं। यात्राओं की निगरानी करने के लिए अन्य राज्यों के नेताओं को बतौर पर्यवेक्षक लगाया गया है।सूत्रों के मुताबिक 15 दिन की यात्रा अब घटकर 13 दिन की रहने से जिला व शहर अध्यक्षों की दुविधा बढ़ी गयी है क्योंकि संदेश यात्रा गांव-गांव तक पहुंचाने के साथ 15 हजार मांगपत्र भी भरवाने का लक्ष्य दिया गया है। टिकट के दावेदारों को भी यात्रा में जुटने को कहा गया है। लक्ष्य पूरा नहीं होने पर जिला अध्यक्षों की कुर्सी और दावेदारों के टिकट खतरे में आ सकते है।

पढ़ें- गोरखपुर में प्रतिमा विसर्जन के दौरान नदी में डूबकर पांच की मौत

यूपी में महिला सुरक्षा कांग्रेस का बड़ा मुद्दा

कांग्रेस महिला प्रकोष्ठ की प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। सपा को प्रदेश की सत्ता संभाले साढ़े चार साल हो चुके हैं, लेकिन महिला सुरक्षा के लिए कुछ नहीं किया गया। आज भी महिलाओं को रात में सड़कों पर निकलने में डर लगता है। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस इसको मुद्दा बनाएगी। मुरादाबाद कार्यकर्ता सम्मेलन में प्रतिभा ने कहा कि भाजपा द्वारा स्वाति सिंह को पार्टी की महिला प्रकोष्ठ का अध्यक्ष बनाने से कांग्रेस पर कोई फर्क नहीं पडऩे वाला। स्वाति अराजनीतिक हैं। वह पति की खड़ाऊं लेकर काम कर रही हैं। भाजपाई टकराव की राजनीति कर रहे हैं। उनकी बयानबाजी और क्रियाकलाप लोगों में खटास पैदा करने वाले हैं। आगामी विधानसभा चुनाव में हर जिले से कम से कम एक महिला प्रत्याशी को उतारा जाएगा। महिला कांग्रेस चुनाव लड़ेगी भी और लड़ाएगी भी। कार्यकर्ताओं को इसके लिए तैयार किया जा रहा है।

Posted By: Nawal Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस