लखनऊ। सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव द्वारा मंगलवार को लखनऊ में एक कार्यक्रम के दौरान रेप (दुष्कर्म) को लेकर दिए गए बयान पर महोबा में कुलपहाड़ के सिविल जज जूनियर डिवीजन ने मुकदमा दर्ज किया है। कोर्ट ने उन्हें 16 सितंबर को अदालत में हाजिर होने के लिए समन जारी किया है। गौरतलब है कि सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने लखनऊ में ई-रिक्शा वितरण के दौरान कहा था कि एक महिला से चार लोग दुष्कर्म नहीं कर सकते। सिविल जज जूनियर डिवीजन कुलपहाड़ के पीठासीन अधिकारी अंकित गोयल ने अखबारों में छपी खबर का संज्ञान ले शुक्रवार को इसका परीक्षण करया। कोर्ट ने आदेश में लिखा है कि मुलायम का यह बयान वैसे भी भारतीय संविधान व विधि में महिलाओं को दिए गए सम्मान के प्रतिकूल है। इस बयान से दुष्कर्म पीडि़तों व उनके परिवारीजन को हुई पीड़ा का अनुमान लगाना कठिन है। मुलायम जैसे जिम्मेदार व्यक्ति के इस कथन का बड़े पैमाने पर प्रचार-प्रसार होने से वह कथन दुष्कर्म जैसी घटनाओं को बढ़ावा देने में सहायक हो सकता है। इस विवेचना से प्रथम दृष्टया अपराध कारित होना पाकर अदालत ने मुकदमा दर्ज करा आरोपी की पेशी के लिए 16 सितंबर की तारीख नीयत कर समन जारी जारी किया है। उल्लेखनीय है कि इसके पहले भी मुलायम ने कहा था कि लड़के हैं, नादानी में गलती हो जाती है।

मुलायम के बयान से डरकर काम कर रही पुलिस

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेई ने आज हरदोई में कहा कि प्रदेश सरकार महिलाओं की सुरक्षा में असमर्थ है। सरकार के 'रहनुमाओं' के गैर जिम्मेदाराना बयान ही सूबे में दुष्कर्म जैसी घटनाओं को और बढ़ावा दे रहे हैं।सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के सामूहिक दुष्कर्म पर दिए गए बयान पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि पुलिस उन्हीं के बयान को आधार बनाते हुए कार्रवाई नहीं कर रही है। सरकार के मुखिया के पिता के बयान के खिलाफ पुलिस नहीं जाना चाहती है और उसी के आधार पर काम भी कर रही है। पुलिस को डर है कि अगर सही कार्रवाई की तो उनका व्यक्तिगत नुकसान हो जाएगा। बाजपेई सुरसा थाना क्षेत्र में एक बालिका की दुष्कर्म के बाद हत्या की घटना के बाद गुरुवार रात गांव आए थे। पीडि़ता के पिता को सांत्वना देकर दोषियों पर उचित कार्रवाई का भरोसा भी दिया। इसके बाद वह सुरसा थाने पहुंचे और थानाध्यक्ष पर निशाना साधते हुए उन्हें बुलाने की मांग करते रहे। करीब आधा घंटे वह थाने पर ही जमे रहे और यहीं पर उन्होंने सरकार और कानून व्यवस्था पर निशाना साधा। कहा कि सपा मुखिया हो या फिर सपा नेता लीलावती या फिर दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री तोताराम सभी के बयान दुष्कर्म की घटनाओं को बढ़ावा दे रहे हैं। जिले में हुई दो दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले को उन्होंने विधान सभा में उठाए जाने की बात कही थी। साथ ही पुलिस को चेतावनी दी कि अगर घटना में शामिल किसी भी आरोपी को पुलिस ने छोड़ा तो हमीरपुर की तरह हरदोई में भी वह धरना प्रदर्शन करेंगे।

Posted By: Ashish Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप