मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

लखनऊ, जेएनएन। लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन ने कर्मचारियों को बाहर करने के मामले में थोड़ा सा राहत देने वाला कदम उठाया है। कर्मचारियों को निकाले जाने की कार्रवाई में 11 महीने की मोहलत को जोड़ दिया गया है। लविवि में मंगलवार को कुलपति प्रो. एसपी सिंह की अध्यक्षता में हुई कार्य परिषद की बैठक में इन कर्मचारियों को अगले 11 महीने तक काम करने के लिए एक्सटेंशन दे दिया गया। इसके साथ ही बीते कई महीनों से कर्मचारियों की रुकी सैलरी भी जारी किए जाने का निर्णय लिया गया। 

 
बता दें , विश्वविद्यालय प्रशासन ने करीब एक सैकड़ा कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाने का मन बनाया था। इनमें 57 कर्मचारियों के बाहर निकालने का प्रस्ताव वित्तीय समिति से पास कराकर कार्य परिषद में रखा गया। जिसमें से 54 कर्मचारियों को कार्य परिषद ने राहत प्रदान कर दिया हैं। इन सभी कर्मचारियों की नियुक्ति लविवि में 2004 से 2012 के बीच हुई है। नियुक्ति के बाद से ही इन कर्मचारियों की कार्यशैली पर सवाल उठते रहे हैं। इनमें से अधिकांश कर्मचारी छात्रावास के हैं और कई ऐसे हैं जिनके विभाग बंद हो चुके हैं। 
 
दो दर्जन से अधिक कॉलेजों में विभिन्न कोर्सेज की मान्यता
लविवि ने इस सत्र से 19 कॉलेजों को विभिन्न कोर्स की स्थाई संबद्धता प्रदान कर दी है। इसके अलावा नौ नए कॉलेजों को अगले सत्र से संचालन शुरू करने की संबद्धता को मंजूरी दी हैं। वहीं इस बार कार्य परिषद की बैठक में कई प्रोफेसरों के प्रमोशन को मंजूरी देने के साथ ही मृतक आश्रितों के परिजनों को नौकरी के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी गई हैं। 
 
इन कोर्स का प्रस्ताव
  • शिया पीजी कॉलेज: अगले सत्र से यूजी लेवल पर बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन।
  • पं. दीनदयाल उपाध्याय राजकीय पीजी कॉलेज: एमए इकोनॉमिक्स का विस्तार।
  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस महिला पीजी कॉलेज: एमएससी जीव विज्ञान का संचालन इसी साल से शुरू करने की मंजूरी। 
  • अमीरुद्दौला इस्लामिया डिग्री कॉलेज:बीएससी कोर्स शुरू करने का प्रस्ताव।  
 
भृगु प्रकाश मेमोरियल अवॉर्ड
इस बार दीक्षा समारोह में एमए मनोविज्ञान के पेपर ऑफ पॉजिटिव साइकोलॉजी में फस्र्ट आने वाले छात्र को भृगु प्रकाश मेमोरियल अवार्ड दिया जाएगा। कार्य परिषद में इस प्रस्ताव को मंजूरी दी हैं। विभाग की प्रो. मधुरिमा प्रधान की ओर से अपने पिता की याद में यह अवार्ड शुरू करने के लिए लविवि को प्रस्ताव दिया गया था।
 
 
अटलजी के नाम पर एकेडमिक ब्लॉक
सीतापुर रोड स्थित लविवि के न्यू कैंपस में बनी लॉ बिल्डिंग का नाम पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी के नाम पर रखने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई हैं। इस बिल्डिंग को अटल बिहारी वाजपेयी एकेडमिक ब्लॉक के नाम से जाना जाएगा। 

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप