लखनऊ, जेएनएन। ऐशबाग से सीतापुर के बीच ढाई साल बाद ट्रेन संचालन नौ जनवरी से शुरू हो जाएगा। रेलवे बोर्ड ने नौ जनवरी को सीतापुर से लखनऊ के बीच पहली ट्रेन चलाने के लिए मंजूरी दे दी है। कार्यक्रम में रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा हरी झंडी दिखाकर ट्रेन को रवाना करेंगे। पूर्वोत्तर रेलवे मुख्यालय गोरखपुर ने लखनऊ मंडल प्रशासन को गुरुवार देर शाम नौ जनवरी को उदघाटन समारोह आयोजित करने के आदेश भी दे दिए हैं। 

मई 2016 से ऐशबाग-सीतापुर रेलखंड पर ट्रेन संचालन बंद चल रहा है। इस रूट का अमान परिवर्तन कर इसे मीटरगेज (छोटी लाइन) से ब्रॉडगेज (बड़ी लाइन) करने का काम शुरू किया गया। आखिरी बार इस रूट की राजधानी एक्सप्रेस कही जाने वाली नैनीताल एक्सप्रेस की आवाज सुनायी दी थी। इस रूट पर रोजाना दोनो दिशाओं से करीब 15 हजार दैनिक यात्री और इतने ही आम यात्री सफर करते थे। अमान परिवर्तन के बाद पिछले महीने ही रेल संरक्षा आयुक्त ने डालीगंज से सीतापुर तक निरीक्षण किया था। इस दौरान रूट का स्पीड ट्रायल भी किया गया। रेल संरक्षा आयुक्त की मंजूरी मिलने के बाद पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल प्रशासन ने रेलवे बोर्ड को ट्रेन संचालन का नोटिफिकेशन जारी करने के लिए अनुमति मांगी थी। हालांकि लखनऊ मंडल प्रशासन 24 दिसंबर को ट्रेन संचालन शुरू करना चाह रहा था। जबकि रेलवे बोर्ड की ओर से रैक की व्यवस्था सहित कुछ तकनीकी बाधाओं के चलते यह संचालन 24 दिसंबर को शुरू नहीं हो सका। अब रेलवे बोर्ड ने नौ जनवरी को ट्रेन संचालन शुरू करने के लिए अपनी स्वीकृति दे दी है। 

पहले चलेंगी तीन ट्रेनें 

रेलवे प्रशासन पहले तीन जोड़ी पैसेंजर ट्रेनें चलाएगा। तीन ट्रेनें ऐशबाग से सीतापुर और तीन सीतापुर से ऐशबाग के लिए चलेंगी। मुख्यालय से रैक की मांग भी की गई है। 

क्या कहते हैं अफसर?

पूर्वाेत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी संजय यादव का कहना है कि नौ जनवरी को ऐशबाग-सीतापुर रेलखंड पर ट्रेन संचालन शुरू हो जाएगा। इसे लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं। जबकि अगले चरण में सीतापुर-मैलानी रूट के अमान परिवर्तन का काम भी शुरू हो गया है। 

Posted By: Anurag Gupta