लखनऊ, जेएनएन। कैंट विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए मतदान शुरू हो गया है। विधानसभा सीट अब तक परंपरागत रूप से भाजपा और कांग्रेस प्रत्याशियों के इर्द-गिर्द ही रही है। अब देखना है कि इस बार वोटर का रुख बदलेगा या नहीं। प्रत्याशियों और पार्टियों के साथ ही कैंट के वोटरों की भी परीक्षा होगी, जो अब तक 50 प्रतिशत से आगे नहीं बढ़ पाए हैं। देखना दिलचस्प होगा कि मतदाता इस बार दोनों मिथकों को तोड़ पाते हंै या नहीं। कैंट विधानसभा क्षेत्र में करीब पौने चार लाख मतदाता हैं। यहां मध्य कमान का मुख्यालय होने के चलते सेना के भी तमाम वोटर यहां हैं। यह भी चुनाव में बड़ा रोल अदा करते हैं। 

मतदान केंद्रों पर पहुंचीं पोलिंग पार्टियां : जिला निर्वाचन अधिकारी कौशल राज शर्मा के मुताबिक सभी 344 पोलिंग पार्टियां मतदान केद्रों तक पहुंच गई हैं। चुनाव में सुरक्षा के पर्याप्त बंदोबस्त हैं। सुबह से ही रमाबाई रैली स्थल पर प्रेक्षक की निगरानी में पार्टियों का निकलना शुरू हो गया था। शाम पांच बजे तक सभी पार्टियां पोलिंग स्टेशनों तक पहुंच गई थीं।

आज बंद रहेंगे स्कूल-ऑफिस: चुनाव के चलते जिले के सभी निजी और सरकारी स्कूल बंद रहेंगे। साथ ही सरकारी कार्यालय, केंद्र सरकार, बैंक, समस्त व्यापारिक प्रतिष्ठान, दुकान, उद्यम, मॉल आदि बंद भी रहेंगे। 

गुरुनानक गल्र्स डिग्री कॉलेज में मतदान केन्द्र में ईवीएम लेकर जाती महिला कर्मचारी

गुरुनानक गल्र्स डिग्री कॉलेज में मतदान केंद्र में बनाया गया ¨पक बूथ ’ जागरण

जिन लोगों का नाम विधानसभा की सूची में नहीं है, वह लोग मतदान नहीं कर सकेंगे 

वोट के लिए अपना पहचानपत्र और वोटर पर्ची साथ ले जाएं

सुबह सात से शाम छह बजे तक पोलिंग स्टेशन में दाखिल होने वालों को मतदान का मौका मिलेगा। 

अपने वाहन से वोट डालने जा सकते हैं। सौ मीटर दूर खड़ा करना होगा 

दिव्यांग वोटर अपना वाहन लेकर मतदान केंद्र के गेट तक जा सकते हैं

वोट को लेकर किसी तरह की समस्या हो तो पीठासीन अधिकारी से संपर्क करें।

इन बातों का रखें ख्याल

यहां कर सकते हैं शिकायत

चुनाव में अगर किसी प्रकार की शिकायत दर्ज करानी हो तो कलेक्ट्रेट में 55 नंबर कमरे में स्थित चुनाव कंट्रोल सेंटर में फोन घुमा सकते हैं। 0522-2611117, 2611118, 2611119 पर फोन कर अपनी समस्या या शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

वोटर आइडी न हो तो ये विकल्प लेकर जाएं मतदान केंद्र

वोट करने के लिए अगर मतदाता पहचान पत्र नहीं है तो वह विकल्पों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए मतदाता सूची में नाम होना जरूरी है। 

’पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, राज्य-केंद्र सरकार के लोक उपक्रम पब्लिक लिमिटेड कंपनियों के फोटोयुक्त पहचानपत्र, बैंक या डाकघरों द्वारा जारी फोटोयुक्त पासबुक, पैन कार्ड, एनपीआर के तहत आरजीआई के स्मार्ट कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, श्रम मंत्रलय द्वारा जारी बीमा स्मार्ट कार्ड, पेंशन दस्तावेज फोटोयुक्त, सांसदों-विधायकों के सरकारी पहचान पत्र, आधार कार्ड।

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप