सीतापुर, जेएनएन। भदेसर गांव में गुरुवार की सुबह अचानक भटक कर तेंदुआ आ गया। शौच जा रहे ग्रामीणों ने इसे देखा तो भगाने की कोशिश की। इसके बाद ग्रामीणों ने घेराबंदी की। इस दौरान तेंदुआ को पकड़ने की कोशिश में तीन ग्रामीण घायल भी हुए हैं। वन विभाग की टीम मौके पर कांबिंग कर रही है। अब भदेसर में पिंजरा लगाने की तैयारी चल रही है। गुरुवार की सुबह भदेसर गांव में अनूप कहीं जा रहे थे। कुछ ग्रामीण भी शौच के लिए निकले थे। इसी दौरान करीब दो बीघे के एक जंगल के पास किसी जानवर की चहलकदमी लगी। इस पर ग्रामीणों ने हल्ला मचाना शुरू कर दिया।

तेंदुए की सूचना पर देखते ही देखते मौके पर सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण जुट गए। घेराबंदी की तो जानवर जंगल में घुस गया। इसके बाद भी ग्रामीणों के प्रयास जारी रहे। सूचना पाकर डीएफओ रुस्तम परवेज और वन विभाग के अन्य अफसर भी मौके पर पहुंच गए। ग्रामीणों से बातचीत की। वन विभाग की टीम ने भी जानवर को देखा और उसे तेंदुआ बताया। इसी बीच ग्रामीण तेंदुआ को पकड़ने की कोशिश में लगे रहे। बताया जा रहा है कि इसी घेराबंदी में भदेसर के अनूप का सबसे पहले तेंदुआ से सामना हो गया। कुछ देर संघर्ष भी चला। इस दौरान अनूप के कुछ नाखून भी लगे। इसके बाद कुलदीप भी तेंदुआ के सामने आ गया। उसके भी कुछ खरोंचें आईं हैं। इसके अलावा एक अन्य ग्रामीण के भी हल्के जख्म हैं। डीएफओ के मुताबिक, तेंदुआ के नाखून ग्रामीणों को लग गए हैं। हम सब मना कर रहे थे। इसके बाद ग्रामीण नहीं माने, इसी वजह से कुछ लोगों को जख्म हुए हैं।

लगाएंगे पिंजरा : डीएफओ

डीएफओ के मुताबिक पिछले दिनों मिश्रिख क्षेत्र में भी तेंदुआ आ गया था। उसे पकड़ने के लिए वहां पर पिंजरा लगाया गया था। इसी पिंजरे को रामपुर मथुरा के भदेसर में लगाया जाएगा। पिंजरे को मिश्रिख से लाने के लिए वाहन का इंतजाम हो गया है। रात तक पिंजरा लग जाएगा।

रात अहम, तेंदुआ के जाने का इंतजार

वन विभाग के रेंजर वसंत कुमार के मुताबिक टीम अभी तेंदुआ की निगरानी करेगी। उन्होंने बताया कि संभव है कि तेंदुआ रात में कहीं और निकल जाए। अगर ऐसा नहीं हुआ तो पिंजरा लगाएंगे। 

Edited By: Anurag Gupta