लखनऊ, जेएनएन। लॉकडाउन में फंसे श्रमिकों को लेकर आ रही ट्रेन में एक युवक की मौत हो गई। ट्रेन में बैठे बैठे युवक सीट पर गिर पड़ा। यह देखकर आसपास बैठे मजदूर सहम उठे। तब तक ट्रेन लखनऊ के चारबाग स्टेशन पर पहुंच चुकी थी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। युवक को जौनपुर जाना था।

 

लॉकडाउन में अहमदाबाद भावनगर में फंसा हीरालाल बिंद अन्य श्रमिकों के साथ यूपी के बस्ती आ रहा था। श्रमिकों के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन में सबके साथ बैठा था। बस्ती से कन्हैया सीतापुर के लिए रवाना होता, लेकिन उसका ये सफर आखिरी सफर साबित हुआ।  हीरालाल जमुहर, पोस्ट तिल्होरा जिला जौनपुर का रहने वाला था। शाम को करीब 6 बजे गुजरात के ढोला से आयी ट्रेन से लखनऊ आया था। ट्रेन खाली कराते समय हीरालाल सीट पर ओंधे मुह पड़ा मिला। उनको एम्बुलेंस से बलरामपुर अस्पताल भेजा गया। जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।जीआरपी ने यात्रियो से पूछ ताछ की तो पता चला की कानपुर तक वह सही था। 

मंजिल पर आने से पहले ही उसकी मौत हो गई। चारबाग स्टेशन पर लोगों ने इसकी जानकारी पुलिस को दी जिसके बाद उसका शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिय गया। युवक के पास मौजूद आधार कार्ड से उसकी पहचान की गई।

कोरोना निगेटिव थी रिपोर्ट 

हीरालाल बिंद भावनगर गुजरात में मजदूरी करता था। वहां प्रवासियों को ट्रेन में भेजने से पहले उसकी कोरोना की जांच हुई थी जो कि निगेटिव आई थी। पुलिस ने कन्हैया के परिवारीजनों को सूचना भेज दी। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस