लखनऊ, जेएनएन। चिकित्सीय पेशा छोड़कर केजीएमयू के एक डॉक्टर इन दिनों मार्केटिंग में हाथ आजमा रहे हैं। वे अपना कामकाज छोड़कर टीवी पर अक्सर बीपी मशीन बेचते दिख जाते हैं। मामले की शिकायत साक्ष्य समेत राज्यपाल, मुख्यमंत्री व कुलसचिव से की गई है। जबकि केजीएमयू प्रशासन ने मामले से अनभिज्ञता जताई है।

यह डॉक्टर केजीएमयू के फिजियोलॉजी विभाग में तैनात हैं। आरोप है, व्यावसायिक टीवी चैनल व वेबसाइट पर ब्लड प्रेशर (बीपी) मशीन बेच रहे हैं। निजी कंपनी की यह मशीन ऑटोमेटिक है। हाथ में बांध दी जाती है, जोकि 24 घंटे तक बीपी की रीडिंग का संग्रह करती है। टीवी पर डॉक्टर साहब इसकी कीमत 17 सौ से 2300 तक बता रहे हैं। उन्नाव निवासी पवन ने टीवी पर मशीन की मार्केटिंग करते हुए एक दिन डॉक्टर को पहचान लिया। इसके बाद राज्यपाल, मुख्यमंत्री व कुलसचिव से शिकायत कर दी। उनका दावा है कि डॉक्टर लोगों को बीपी मशीन खरीदने की सलाह खुलेआम दे रहे हैं।

राज्यपाल, मुख्यमंत्री और कुलसचिव से शिकायत

मशीन की कीमत 17 सौ से 2300 रुपये तक

सेवा शर्तो का उल्लंघन

शिकायतकर्ता ने पत्र में कहा है कि डॉक्टर का यह कृत्य सरकारी सेवा शर्तो का उल्लघंन है। शिकायत में डॉक्टर से नॉन प्रैक्टिस एलाउंस लेने के बावजूद व्यावसायिकता करने का आरोप लगाया। इसमें केजीएमयू अधिनियम की धारा 37 (3) व शासनादेश संख्या-4577/71-3-2003-323/83 टीसी का उल्लंघन बताया।

मरीज पर भी मशीन लेने का जोर

आरोप है कि डॉक्टर विभाग में इलाज कराने आने वाले मरीजों पर भी संबंधित मशीन लेने का दबाव डालते हैं। दावा है कि यहां कंपनी के प्रतिनिधि मौजूद रहते हैं, जो मरीज के मशीन लगाकर पैसे वसूलते हैं।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप