लखनऊ (जेएनएन)। योगी सरकार ने पूर्वांचल पर मेहरबानी दिखाई है। अनुसूचित जाति व जन जाति के लिये 100 करोड़ रुपये का अलग से प्रावधान किया गया है जबकि पूर्वांचल क्षेत्र विकास की विशेष योजनाओं के लिये 200 करोड़ रुपये का अलग से प्रावधान किया है। एक्सप्रेस-वे निर्माण से लेकर अन्य कई मदों में खजाने में कोई कंजूसी नही की गई है। योगी सरकार को अहसास है कि 2019 में दिल्ली सरकार का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर गुजरेगा इसीलिए पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के लिये खास पहल की गई है। इस बजट में प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी और मुख्यमंत्री के गृह जिले गोरखपुर पर सरकार की कृपा बरसी है।

अखिलेश सरकार की योजना के लिए खोला खजाना 

आगरा एक्सप्रेस-वे योजना पर मेहरबानी दिखाने के साथ योगी सरकार ने अखिलेश यादव की सरकार में शुरू की गई पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के लिये खजाना खोला है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए एक हजार करोड़ रुपये की व्यवस्था बजट में की गई है। गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे परियोजना के प्रारंभिक कार्यों के लिए 550 करोड़ रुपये की व्यवस्था प्रस्तावित है। विकास के लिए सड़क सबसे बड़ा साधन है और सरकार ने इस सड़क के जरिये 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में वोटरों को साधने का उपक्रम किया है। वाराणसी में लाल बहादुर शास्त्री के पैतृक आवास को स्मृति संग्रहालय के रूप में विकसित किया गया है जबकि गोरखपुर में आधुनिक प्रेक्षागृह के निर्माण पर 29 करोड़ 50 लाख रुपये की व्यवस्था की जानी है। 

पर्यटन के लिए बौद्ध परिपथ और जैन परिपथ

पर्यटन के लिहाज से बौद्ध परिपथ, जैन परिपथ, अयोध्या में दीपोत्सव और काशी में देव-दीपावली के लिए भी बजट का प्रावधान है। प्राविधिक शिक्षा एवं व्यवसायिक शिक्षा में रूसा योजना के तहत गोंडा और बस्ती में दो इंजीनियरिंग कालेजों के लिए 14 करोड़ 52 लाख रुपये प्रस्तावित किये गये हैं तो मीरजापुर और प्रतापगढ़ में नए इंजीनियरिंग कालेजों का निर्माण पूरा करने को 12 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है।

नेपाल सीमा विकास के लिए प्रावधान

बार्डर एरिया डेवलपमेंट कार्यक्रम के लिए 57 करोड़ रुपये का प्रावधान है। इस योजना में भी नेपाल बार्डर पर लगने वाले पूर्वांचल के महराजगंज, सिद्धार्थनगर, बहराइच, श्रावस्ती और बलरामपुर आदि जिले आते हैं। सरयू नहर परियोजना में 1614 करोड़ रुपये की बजट की व्यवस्था है। राजकीय मेडिकल कालेज गोरखपुर में बर्न यूनिट की स्थापना होनी है। चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में भी बड़ी योजनाएं पूर्वांचल में दी गई हैं। गोरखपुर के लिए पर्यटन समेत कई क्षेत्रों में बजट के प्रावधान किये गये हैं। 

Posted By: Nawal Mishra