लखनऊ (जेएनएन)। कल राजधानी के वीवीआइपी गेस्ट हाऊस का नजारा बदला हुआ था। सीबीआइ की विशेष अदालत में पेश होने के लिए पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी समेत अयोध्या विवादित ढांचा ध्वंस के आरोपित आए तो बारी-बारी लेकिन, गेस्ट हाऊस से अदालत के लिए उनका काफिला एक साथ गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गेस्ट हाऊस के द्वार पर खड़े होकर आडवाणी की अगवानी की। गेस्ट हाऊस में राष्ट्रीय स्वयं संघ (आरएसएस) के सह सर कार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल मौजूद थे। एयरपोर्ट पर स्वागत कर चुके भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष व उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी गेस्ट हाऊस पहुंचे। रह-रह कर हो रहे जय श्रीराम के उद्घोष के बीच ऐसा लगा जैसे भाजपा, आरएसएस और सरकार उनके समर्थन में पूरी ताकत के साथ खड़ी है।


अयोध्या के विवादित ढांचा ध्वंस की सुनवाई कर रही सीबीआइ की विशेष अदालत के आदेश पर मंगलवार को कुल 12 लोग पेश होने आए थे। सबसे पहले सांसद विनय कटियार गेस्ट हाऊस पहुंचे। फिर लोगों के आने का सिलसिला शुरू हुआ। आडवाणी और मुख्यमंत्री की मुलाकात की वजह से सुरक्षा के भारी भरकम प्रबंध थे। इस बीच पूर्व सांसद राम विलास वेदांती पहुंचे। आडवाणी के पहुंचने का संकेत मिला तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी पहुंच गए। योगी पहले कमरे में गए और फिर बाहर गेट पर आकर खड़े हो गए। आडवाणी अपनी बेटी प्रतिभा आडवाणी के साथ आए तो योगी ने उनका स्वागत किया।

फिर पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी आए। इस दौरान कई अधिवक्ता गेस्ट हाऊस पहुंच गए थे। एक कक्ष में मुख्यमंत्री की मौजूदगी में अधिवक्ताओं ने पेशी की औपचारिकता के लिए कागजी प्रक्रिया पूरी करनी शुरू कर दी। बाहर से एक पंडित जी पूजन सामग्री लेकर अंदर पहुंचे तो जिज्ञासा हुई कि कहीं कोई पूजन तो नहीं हो रहा है लेकिन, ऐसा नहीं था। इस दौरान केंद्रीय मंत्री उमा भारती का इंतजार चल रहा था। वह कानपुर से सड़क मार्ग से आ रही थीं। झांसी लोकसभा क्षेत्र के सभी विधायक भी उनकी अगवानी के लिए मौजूद थे। राज्यमंत्री मनोहर लाल कोरी भी आ गए।

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के अलावा मंत्री सतीश महाना, पूर्व मंत्री लालजी टंडन समेत कई बड़े नेता पहुंचने लगे। बाहर आरएसएस, विश्व हिंदू परिषद और भाजपा कार्यकर्ता मौजूद थे। साध्वी ऋतंभरा भी पहुंचीं। आडवाणी के पहुंचने के बाद करीब 45 मिनट तक मंथन चलता रहा। फिर अदालत के लिए लोग बाहर निकले। आडवाणी का वाहन सबसे आगे था। मुख्यमंत्री माल एवेन्यू में होने वाले एक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए चले गए जबकि बाकी नेताओं का काफिला आडवाणी के पीछे था।

नेताओं के बोल

मोदी और योगी मिलकर बनवाएंगे मंदिर
केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकार है इसलिए अयोध्या में राम मंदिर बनेगा। मोदी और योगी मिलकर रामलला का भव्य मंदिर बनवाएंगे। छह दिसंबर, 1992 में हमने खंडहर को तोड़वाया। इस मामले में आडवाणी और जोशी निर्दोष हैं। देश का 80 प्रतिशत मुसलमान चाहता है कि राम मंदिर बने।
-डॉ. राम विलास वेदांती, पूर्व सांसद

ढांचा ध्वंस का कोई मलाल नहीं
हमें ढांचा ध्वंस का कोई मलाल नहीं है। वहां जर्जर ढांचा था और लाखों भक्तों की इच्छा थी कि मंदिर बने इसलिए ढांचा ध्वंस हो गया। कोर्ट ने भी माना है कि वहां मंदिर था। हम पर मुकदमा चलता है तो चले। हम कोर्ट के सम्मान में आए हैं।
-विनय कटियार, सांसद

सीबीआइ जवाब देगी
हम मंत्रों के निर्माता हैं, षड्यंत्र करने वाले लोग नहीं हैं। सीबीआइ ने केस किया है तो सीबीआइ जवाब देगी।
-साध्वी ऋतंभरा

गर्व का दिन
विपक्ष आज के दिन को काला दिन कहे या चाहे कुछ भी लेकिन, भाजपा के लिए आज का दिन गर्व का दिन है। यह अदालत का मामला है और अदालत में न्याय होगा।
-केशव प्रसाद मौर्य, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व उप मुख्यमंत्री
 

Posted By: Ashish Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस