लखनऊ [मोहम्मद हैदर]। रमजान का महीना हजार महीनों से अफजल है। रमजान के महीने में रोजेदारों को इबादत का 70 गुना अधिक सवाब मिलता है। रमजान मगफिरत (गुनाहों से माफी) का बेहतरीन मौका है। इस भागदौड़ भरी जिंदगी में रोजेदार को कामकाज के साथ ज्यादा से ज्यादा समय इबादत करने के लिए मिले इसके लिए इस्लामिक मोबाइल ऐप का सहारा ले रहे हैं। गूगल प्ले स्टोर पर दर्जनों मोबाइल ऐप उपलब्ध हैं। ऐप डाउनलोड करते समय स्टार रेटिंग के साथ डिटेल जरूर जांच लें। आइए, जानते हैं ऐसे ही कुछ खास मोबाइल ऐप के बारे में। 

ऑनलाइन कुरआन शरीफ की तिलावत करें 

  • इबादत-ए-रमदान 

  • रेटिंग 5.0, 52 एमबी

इस एप पर कुरआन शरीफ को ऑफलाइन भी पढ़ा जा सकता है। मोबाइल के साथ अपने पेन ड्राइव में सेव भी कर सकते हैं। इसके अलावा रिश्तेदारों को यह ऐप फेसबुक, जीमेल, वॉट्सऐप व ट्विटर पर शेयर भी कर सकते हैं। 

जानें अपने सवालों के जवाब 

  • रमजान टाइम 2019 
  • रेटिंग 4.7, 18 एमबी

इस ऐप से आपको नमाज का समय ही नहीं, इफ्तार व सहरी का भी सही समय पता चलेगा। ऐप में प्रेयर टाइम, रमजान टाइम, इस्लामिक कैलेंडर, अजान अलर्ट, रमजान कैलेंडर, रमजान रेसिपी व रमजान विसेज का अलग-अलग सेक्शन दिया गया है। यह ऐप तीन भाषाओं में है। इंग्लिश, उर्दू के अलावा अरबी भाषा में भी इसे इंस्टॉल किया जा सकता है।

बेहतरीन दुआओं का कलेक्शन 

  • डिवाइन पर्ल 
  • रेटिंग 4.8, 36 एमबी

इस ऐप में दिन की सभी वाजिब नमाज की दुआ अपलोड है। साथ ही, बेहतरीन दुआओं का कलेक्शन भी हैं। ऐप पर आप जियारत, तस्बीह व कुरआन शरीफ की सूरह भी पढ़ सकते हैं। ऐप में दिन की पांच वाजिब नमाजों का रिकार्ड भी रख सकते हैं। यह ऐप अंग्रेजी और उर्दू दोनों भाषा में है। 

बताएगा किब्ला रूख की दिशा 

  • किब्ला कम्पास फॉर नमाज 
  • रेटिंग 4.6, 29 एमबी

इस ऐप में किब्ला (नमाज अदा करने की दिशा) कम्पास फॉर नमाज के साथ सहरी व इफ्तार का सही समय और उसकी दुआ है। इसके अलावा अगर आप रमजान के दिनों में सफर कर रहे हैं और आपको किब्ला रूख का अंदाजा नहीं है, तो यह ऐप आपको सही दिशा बताएगा। इस्लामिक आर्टिकल भी मौजूद हैं, जो 30 भाषाओं को सपोर्ट करता है। 

ट्राई करें कुछ नया

  • रमदान रेसिपी  
  • रेटिंग 5.0, 3.8 एमबी

यह ऐप नए-नए जायके तैयार करने का तरीका बताता है। इस ऐप से आप इफ्तार व सहरी के लिए स्वादिष्ट व्यंजन तैयार करने की विधि जान सकते हैं। इसमें आचारी समोसा, शामी कबाब, चिकन रेशमी कबाब, खट्टी-मीठी बोटी, तरबूज का जूस व फ्रूट खीर आदि की विधि बताई गई है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप