लखनऊ, जेएनएन। रेल प्रशासन द्वारा गोमती एक्सप्रेस का निरस्तीकरण छह मार्च तक कर देने से लखनऊ से दिल्ली के बीच सफर करने वाले यात्रियों के सामने एक विकल्प खत्म हो गया है। नियमित रूप से इस ट्रेन से अप व डाउन दस हजार से अधिक लोग करते हैं। कई स्टेशनों के बीच यह ट्रेन सेतु का काम करती है। सुबह के समय यह ट्रेन दैनिक यात्रियों के लिए मददगार है। हालांकि होली से पहले तक ट्रेन निरस्त होने से यात्रियों के सामने अब अपने गंतव्य पर पहुंचने के लिए स्पेशल ट्रेन का सहारा ही बचा है। 

गोमती एक्सप्रेस में एक माह पहले सीट व बर्थ की बुकिंग शुरू होती है। ऐसे में पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार ट्रेन निरस्त होने से उन यात्रियों को झटका लगा है, जो पिछले कई साल से गोमती एक्सप्रेस से ही होली व दीपावली में अपने घर आ रहे हैं। यह ट्रेन सुबह लखनऊ से चलती है और दूसरा रैक दोपहर में दिल्ली से। जरूरत व भीड़ बढऩे पर अतिरिक्त कोच लगाने की व्यवस्था भी होती है। खासबात है कि गोमती में फस्र्ट एसी, सेकेंड एसी होने के साथ ही सेकेंड क्लास, व एसी चेयर क्लास की सुविधा है। अमूमन इतनी क्लास अन्य ट्रेन में नहीं होती। वहीं लखनऊ से दिल्ली के बीच सफर करने वालों के लिए मददगार होती है और लखनऊ मेल, एसी एक्सप्रेस, काशी विश्वनाथ, पदमावत एक्सप्रेस में भीड़ को नियंत्रित रखती है। 

स्पेशल ट्रेनों से यात्रियों को उम्मीद 

रेलवे यात्रियों को रेल प्रशासन द्वारा हर साल होली के समय चलाई जाने वाली स्पेशल ट्रेनों का सहारा है। वहीं दस मार्च को होने वाली होली को देखते हुए लखनऊ से दिल्ली, चंडीगढ़, जयपुर, मुंबई, पुणे सहित अलग अलग गंतव्यों की ट्रेनों में वेटिंग शुरू हो गई है। 

 

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस