लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज देश के 73वें स्वतंत्रता दिवस पर उत्तर प्रदेश व देश के निवासियों को बधाई दी है। उन्होंने कश्मीरी भाई-बहनों को विशेष बधाई देते हुए कहा कि यह स्वतंत्रता दिवस एक नया सवेरा लेकर आया है, उन्हें अनुच्छेद 370 की बेडिय़ों से मुक्ति मिली है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने देश वासियों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर प्रदेशवासियों को 73वें स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन की बधाई दी। अपने बधाई सन्देश में उन्होंने कहा कि यह दिन कश्मीर के लिए नया सवेरा लेकर आया है। उन्हें अनुच्छेद 370 की बेडिय़ों से मुक्ति मिली है। इस बार स्वतंत्रता दिवस देश के लिए विशिष्ट है, क्योंकि जम्मू-कश्मीर राज्य को अभी हाल ही में अनुच्छेद 370 से मुक्ति मिली है। अब यह राज्य विकास की नई गाथा लिखने जा रहा है। इसके अलावा लद्दाख के हर नागरिक को भी अब नया सवेरा देखने को मिल रहा है। भारत की एकता और अखण्डता की दृष्टि से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का यह अभूतपूर्व, ऐतिहासिक और साहसिक निर्णय अभिनन्दनीय है। मुख्यमंत्री ने लिखा कि कश्मीरी भाई बहनों के विकास के लिए एक नया मार्ग प्रशस्त हुआ है और कश्मीर और लद्दाख अब विकास की एक नई गाथा लिखने जा रहे हैं। साहसिक निर्णय लेकर भारत की एकता और अखंडता के इतिहास में एक सुनहरा अध्याय लिखने के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री जी तथा केन्द्रीय गृह मंत्री जी का अभिनन्दन।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि आइये,संकल्प लें एक नए भारत, नए उत्तर प्रदेश के निर्माण का, जिसमें समाज के हर वर्ग, जाति, पंथ एवं सम्प्रदाय के लोगों को अपनी सम्पूर्ण क्षमता के विकास का अवसर मिले। कश्मीरी भाई-बहनों के लिए यह स्वतंत्रता दिवस एक नया सवेरा लेकर आया है, उन्हें अनुच्छेद 370 की बेडिय़ों से मुक्ति मिली है। भारत की एकता और अखंडता के इतिहास में एक सुनहरा अध्याय लिखा गया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर लिखा कि मां भारती को परतंत्रता की बेडिय़ों से मुक्त कराने के लिए त्याग और समर्पण की नई गाथा लिखने वाले सभी स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को मेरा शत-शत् नमन। आज उन्हें स्मरण कर उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का दिन है। 73वें स्वतंत्रता दिवस की सभी देशवासियों को कोटि-कोटि शुभकामनाएं। उन्होने जनता से शहीदों एवं स्वतंत्रता सेनानियों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हुए देश की सुख-समृद्धि के लिए पूरी क्षमता से प्रयास करने का संकल्प लेने का आह्वान किया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने बधाई संदेश में कहा है कि यह राष्ट्रीय पर्व हमें अमर शहीदों और स्वतंत्रता सेनानियों के संघर्ष और बलिदान की याद दिलाता है। उत्तर प्रदेश की धरती से ही सन् 1857 में स्वतंत्रता संग्राम की शुरुआत हुई थी। आजादी की लड़ाई में अपने प्राण न्यौछावर करने वाले सभी ज्ञात-अज्ञात देशभक्तों एवं सेनानियों से हम सभी को देशभक्ति के लिए प्रेरणा लेनी चाहिए। 

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार 'सबका साथ सबका विकास, सबका विश्वास' की अवधारणा को वास्तविक अर्थों में साकार कर रही है। राज्य सरकार अन्त्योदय की भावना के अनुरूप समाज के आखिरी पायदान पर खड़े व्यक्ति के उत्थान को प्राथमिकता दे रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व में एक महाशक्ति के रूप में स्थापित होने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ चला है। आज देश विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है।

 

रक्षाबंधन पर कई बहनों को सम्मान देने का काम

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बोले, आदरणीय प्रधानमंत्री जी ने रक्षाबंधन पर कई बहनों को सम्मान देने का काम किया है। जो पीड़ित थे तीन तलाक से। तीन तलाक से मुक्ति नारी की गरिमा और नारी को शक्ति प्रदान करता है। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने आज रक्षाबंधन पर्व की भी शुभकामनाएं उन्होंने कहा देश की सभी बहनों बेटियों को रक्षाबंधन की शुभकामनाएं. प्रदेश की सभी माताओं-बहनों को रक्षाबंधन के पावन पर्व पर सुरक्षित एवं मुफ्त यातायात का तोहफा। 15 अगस्त को परिवहन निगम की बसों में महिलाएं नि:शुल्क यात्रा कर सकेंगी। 

उन्होंने कहा कि 70 वर्षो से धारा 370 को लेकर जो आशंका आम लोगो मे थी पहली बार इसका परिमार्जन हुआ। शेष भारत की तरह एक भारत, श्रेष्ठ भारत बना है। प्रकाश उत्सव के कार्यक्रम के अवसर पर गुरु नानक देव से जुड़े हुए पवित्र स्थलों के सुंदरीकरण और उनके संदेश को आमजन तक पहुंचाने की वृहत कार्य योजना को आगे बढ़ाया गया है। देश की स्वाधीनता या उसके आंदोलन की बात करते हैं तब हम सबके दिमाग में 1857 का चित्र सामने आ जाता है। यह हमारे लिए गर्व की बात है। 1857 की क्रांति हमारे उत्तर प्रदेश से शुरू हुई।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस, चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, ठाकुर रोशन सिंह, पंडित राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खां सभी महान क्रांतिकारियों को स्मरण करता हूँ। जिन्होंने गुलामी की बेड़ियों को तोड़ने के लिए भारत के स्वाधीनता पर अपना सर्वस्व निछावर किया। देश के सबसे बड़े प्रदेश की अपनी भूमिका होनी चाहिए इस उभरते हुए भारत में। उत्तर प्रदेश वन ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमिक्स में स्थापित हो उसमें हम सब का संकल्प होना चाहिए। प्रयागराज कुंभ में अद्भुत आयोजन करने का सौभाग्य उत्तर प्रदेश सरकार को मिला। संदेश था कि यह सिर्फ धार्मिक आयोजन न हो, जिसे सफलता से पूरा किया है। 15वां प्रवासी भारतीय योजना भी उत्तर प्रदेश में सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ। उत्तर प्रदेश में चुनाव भी शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुई। निर्वाचन आयोग के सामने कहीं भी री पोल की नौबत नहीं आई। 

Posted By: Dharmendra Pandey