लखनऊ, जेएनएन। बारिश के मौसम में ह्यूमिडिटी (आद्रता) बढ़ गई है। नम हवा सांस रोगियों के लिए मुसीबत बन रही है। ऐसे में अस्थमा, सीओपीडी, ब्रांकाइटिस के मरीजों को सेहत के प्रति सतर्क रहना होगा। अस्पतालों में चेस्ट विभाग की ओपीडी में रोगियों की संख्या बढऩे लगी है।

शहर में बारिश का दौर चल रहा है। ऐसे में वातावरण में नमी कायम है। इस दौरान बुखार, जुकाम, सिर दर्द, गले में संक्रमण, स्किन एलर्जी, पेट में इंफेक्शन की समस्या आम है। केजीएमयू के पल्मोनरी विभाग के डॉ. आरएएस कुशवाहा के मुताबिक अस्थमा (दमा), सीओपीडी, ब्रांकाइटिस के मरीजों की समस्या भी बढ़ गई है। ऐसे व्यक्तियों में खांसी व सांस फूलने की समस्या भयावह हो रही है।

लिहाजा मरीजों को सावधानी बरतने की जरूरत है। खासकर, वह धूल, धुआं से बचाव करें। खांसी व सांस फूलने की समस्या बढऩे पर सुबह-शाम भाप का बफारा अवश्य लें। इनहेलर व अन्य दवा लेने वाले मरीज बीच में इसका उपयोग बंद न करें। कोई दिक्कत होने पर तुरंत अस्पताल पहुंचे और चिकित्सक से संपर्क करें। कारण, जरा भी लापरवाही अस्थमा अटैक का कारण बन सकती है। 
सिकुड़ रही सांस नली
डॉ. आरएएस कुशवाहा के मुताबिक वातावरण में नमी से प्रदूषित कण रेस्पेरेटरी जोन में आ गए हैं। ऐसे में सांस लेने के वक्त हवा में मौजूद प्रदूषित कण श्वसन नलिकाओं में चले जाते हैं। इसमें पहले सांस नलिका में सूजन आती है फिर वह सिकुड़ जाती है। यह दिक्कत दमा व सीओपीडी मरीजों के लिए घातक होती है।  
सांस रोग व एलर्जी के लक्षण
  • सांस लेने में दिक्कत होना
  • जल्दी-जल्दी सांस लेना
  • लगातार छींके आना
  • थकान बनी रहना
  • गले में खिचखिच,नाक में खुजली होना
  •  गले से घरघराहट की आवाज, सीटी जैसा बजना
  • सीने में दर्द, सीना में जकडऩ होना
  • चलने-फिरने में सांस-फूलना,
  • घबराहट व तेज सांस चलना
  • सोते वक्त उलझन महसूस होना
  • लगातार खांसी आना
बचाव के उपाय
  • सांस रोगी बाहर निकलते वक्त मॉस्क व रूमाल बांध लें
  • बाइक पर हेल्मेट लगा लें, ताकि सांस लेते वक्त हवा में मौजूद प्रदूषित कणों से कुछ हद तक बचाव हो सके
  • पार्टियों में आइसक्रीम खाने से बचें
  • धूल-धुआं व गर्दा से बचें
  • स्मोकिंग बिल्कुल न करें
  • स्मोकिंग कर रहे व्यक्ति के पास न खड़े हों
  • रोगी घर में अगर बत्ती, धूप बत्ती का धुआं न करें
  • तीक्ष्ण गंध वाले उत्पादों के प्रयोग से बचें
  • घर की नियमित सफाई करें

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप