लखनऊ [राजीव बाजपेयी]। नगर निगम से लेकर एलडीए तक अपनी जमीन सुरक्षित रखने में नाकाम साबित हुए हैं। सिंचाई विभाग की जमीनों को कब्जे से मुक्त कराने के लिए तो जलशक्ति मंत्री ने निर्देश जारी कर दिए, लेकिन एक हजार हेक्टेयर से अधिक सरकारी जमीनों पर अवैध कब्जे हैं जिनको खाली कराना आसान नहीं है। 

राजधानी में सरकारी महकमों की जमीनें ही सबसे अधिक असुरक्षित हैं। नगर निगम से लेकर एलडीए और वन विभाग तक कोई ऐसा विभाग नहीं है जिसकी जमीन पर दूसरे काबिज नहीं हों। दूसरे के कब्जे हटाने वाले निगम की ही करीब डेढ़ सौ हेक्टेयर जमीन पर अतिक्रमण है। ऐसा ही हाल दूसरे सरकारी महकमों का है। राजधानी में जमीन के इन आंकड़ों का गौर करें तो पता चलता है कि अधिकांश सरकारी महकमे जमीनों पर से अवैध अतिक्रमण हटाने में कतई दिलचस्पी नहीं रखते हैं। यही वजह है कि खुद मुख्यमंत्री के कई बार निर्देश के बावजूद अब तक राजधानी में ही करीब एक हजार हेक्टेयर से अधिक सरकारी जमीनों पर अवैध कब्जे हैं। 

नेता से लेकर बिजनेस मैन तक पर कब्जे के आरोप 

दूसरी सरकारी जमीनों की तरह ही सिंचाई विभाग की जमीनों की बड़ों ने बंदरबाट की और इमारतें खड़ी कर लीं। बाबू अड्डा चौराहे पर सिंचाई विभाग की जमीन पर व्यवसायी हलवासिया ने कांपलेक्स खड़ा किया। शिकायत होने पर प्रशासन ने निर्माण कार्य रुकवा दिया। सपा का दामन छोड़कर भाजपा से एमएलसी बने बुक्कल नवाब भी सिंचाई विभाग की कई जमीनें अपनी होने का दावा करते रहे हैं। कई मामले कोर्ट में लंबित भी हैं। इसके अलावा बख्शी का तालाब इलाके में माल रोड के पास एक रियल स्टेट कारोबारी नदी किनारे अपनी टाउनशिप बसाने की तैयारी कर रहा है। शारदा नहर के आसपास कई लोगों ने अतिक्रमण कर रखा है।

  • विभागवार कब्जे 
  • नगर निगम : 130.490 हेक्टेयर
  • एलडीए : 15.09 हेक्टेयर
  • आवास विकास : 10 हेक्टेयर
  • वन विभाग : 85.54 हेक्टेयर
  • सिचाई विभाग : 22.524 हेक्टेयर
  • शारदा नहर- 9.9076
  • लोक निर्माण विभाग :4.29
  • जिला उद्यान : 2.16 
  • लेसा : .822 हेक्टेयर
  • कृषि विभाग : 0.16
  • पंचायत रात विभाग : .072
  • ग्रामोद्योग अधिकारी :.18

नगर पंचायतों में

  • बीकेटी : 29.98  हेक्टेयर
  • इटौंजा 1.1173 हेक्टेयर
  • महोना : 0.664 हेक्टेयर
  • ग्राम पंचायतों में 

तहसीलों में   

  • सदर तहसील : 365.22 हेक्टेयर
  • बीकेटी : 591.888 हेक्टेयर
  • सरोजनीनगर : 445.341 हेक्टेयर
  • मलिहाबाद : 427.443 हेक्टेयर
  • मोहनलालगंज : 106.719 हेक्टेयर

 (तहसील आंकड़ों में थोड़ा फेरबदल हो सकता है)

 

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस