लखनऊ, जेएनएन। यूपी सालिड वेस्ट मैनेजमेंट मॉनिटरिंग कमेटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति डीपी सिंह ने शनिवार को होटल कारोबारियों की जमकर खबर ली। वह होटल कारोबारियों के कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि आए थे, पर उन्हें ही सुधर जाने की हिदायत दी।

 
स्पष्ट कहा, उन्होंने कुछ होटलों का निरीक्षण किया है जहां से पता चला कि सीधे नालों से गंदगी गोमती में डाली जा रही है। 30 फीसद प्रदूषण तो होटलों का है। हम अब करोड़ों रुपये का जुर्माना होटलों पर लगाएंगे, उम्मीद करते हैं कि वे जल्द से जल्द सुधर जाएं, वरना हम सुधारेंगे। वह गोमती नगर के एक होटल में इनवायरमेंट कंसर्ट ऑफ हॉस्पिटेलिटी इंडस्ट्री विषय पर आयोजित कार्यशाला में बोल रहे थे।
 
मानक पूरा करने को दिया समय
डीपी सिंह ने कहा कि यहां के होटलों में कूड़ा निस्तारण का इंतजाम नहीं किया गया है। एक होटल पर 15 करोड़ का जुर्माना ठोकने जा रहे थे। होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेंद्र कुमार जायसवाल ने अनुरोध पर मानक पूरा करने के लिए एक माह का समय दे दिया।

बायो वेस्ट निस्तारण को छोटे एसटीपी लगाएं
डीपी सिंह ने बताया कि होटल कारोबारी बायो वेस्ट को निस्तारित करने के लिए एजेंसी चुनें। इसके अलावा सीवरेज के लिए छोटे एसटीपी लगा लगाएं। 50 बेड से ज्यादा बड़े होटलों पर ये नियम लागू होगा। वरना बड़ा जुर्माना लगेगा। नगर विकास सचिव अनुराग यादव ने नदियों की स्वच्छता और कूड़ा निस्तारण के संबंध में अहम टिप्स दिये। इस मौके पर होटल रेस्टोरेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेंद्र कुमार जायसवाल, महासचिव गिरीश ओबराय और कोषाध्यक्ष रवी एस खन्ना मौजूद रहे।

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस