लखनऊ, जेएनएन। विशेष खंड स्थित सारा ग्रैंड होटल में शुक्रवार देर रात रिसेप्शन पर मौजूद कर्मचारी मूलरूप से पूरे बसावन, कटरा गुलाब सिंह थाना जेठवारा, प्रतापगढ़ निवासी कृष्ण प्रताप सिंह (20) की गोली मारकर हत्या कर दी गई। 

कृष्ण प्रताप का कुसूर बस इतना था कि रात में करीब डेढ़ बजे उसने होटल में ठहरी दिल्ली निवासी गुरमीत कौर नामक युवती से मिलने जा रहे युवकों को रोक दिया था। इससे नाराज दो युवकों ने कृष्ण प्रताप को मौत के घाट उतार दिया। एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक पीडि़त परिवार की तहरीर पर दो युवतियों समेत पांच के खिलाफ हत्या की नामजद एफआइआर दर्ज की गई है। दो युवतियों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि एक युवक हिरासत में है।

शुक्रवार शाम आई थी गुरमीत
होटल सारा ग्रैंड में शुक्रवार शाम करीब सवा चार बजे गुरमीत कौर कमरा नंबर 217 में ठहरी थी। शुक्रवार देर रात पड़ोस के होटल शुभ इन में ठहरा धीरज नारंग नाम का युवक गुरमीत से मिलने सारा ग्रैंड पहुंचा था। रिसेप्शन पर मौजूद कृष्ण प्रताप ने धीरज को युवती के कमरे में जाने से रोक दिया। इस पर दोनों में बहस हो गई और धीरज वापस लौट गया। थोड़ी देर बाद रात करीब 1:49 बजे धीरज के दोस्त अभय सिंह तथा हरिओम सारा ग्रैंड पहुंचे और दरवाजा खुलवाया। दोनों ने गुरमीत के कमरे में जाने की बात कही। कृष्णकांत ने मना करते हुए दोनों के युवती से संबंध के बारे में पूछताछ की। इससे नाराज अभय और हरिओम ने कृष्ण प्रताप को गोली मार दी।

सीसी कैमरे में घटना, तौलिये ने खोला राज
छानबीन करने एसएसपी खुद होटल पहुंचे और सीसी कैमरे खंगाले तो पूरी घटना उसमें कैद मिली। एसएसपी के मुताबिक होटल के बाहर पड़ताल की गई तो कुछ दूरी पर होटल शुभ इन का तौलिया पड़ा मिला। इसके बाद शुभ इन होटल के कैमरे खंगाले गए। इस दौरान एक युवक होटल के कमरे से चेहरे पर तौलिया लपेटते हुए बाहर निकलते नजर आया। इसके बाद पुलिस टीम ने होटल के कमरे में दबिश दी तो उसमें धीरज दिल्ली निवासी रूबी के साथ ठहरा मिला।

युवतियों ने उकसाया तो पहुंच गए गोली मारने
पुलिस को पांचों आरोपितों धीरज, अभय सिंह, हरिओम, गुरमीत और रूबी की रिकॉर्डिंग तथा वाट्सएप चैटिंग मिली है। पुलिस का कहना है कि जांच में सामने आया है कि गुरमीत और रूबी ने आरोपितों को उकसाया था। यही नहीं, रूबी ने ही अभय को तौलिया भी दी थी, जिससे वह अपना चेहरा छिपा सके। वारदात को अंजाम देने के बाद अभय तौलिया सड़क पर फेंककर हरिओम के साथ भाग निकला था।

Posted By: Anurag Gupta