लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय महासचिव व सांसद जयंत चौधरी ने कहा कि राजनीति मे स्वच्छ छवि व ईमानदार लोगों को आना चाहिए। यदि सदन में पांच-छह सदस्य स्वच्छ छवि के होते हैं तो वे दिशा देने का काम करते हैं। हरदोई में कार्यकर्ता सम्मेलन में चौधरी ने कहा कि सपा प्रमुख हर तीन माह में दुष्कर्म पर बोलते हैं जब कि किसानों की समस्याओं पर कभी नहीं बोलते। प्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त है। भ्रष्टाचार चरम पर है। जो पैसा देकर नौकरी पाएगा वह भ्रष्टाचार तो करेगा ही। प्रदेश सरकार ने यादव सिंह के बचाने के लिए अच्छे से अच्छे वकील खड़े किए लेकिन अदालत के आगे उसकी नहीं चली। सांसद निधि सहित सभी विकास कार्यों की ठेकेदारी में राजनीतिक हस्तक्षेप यदि समाप्त हो जाए तो कम मूल्य वादी निविदाएं स्वीकृत होने लगेगी। इससे यादव सिंह जैसे लोग जन्म नहीं ले सकेगे। कहा कि सीबीआइ जिसके हाथ सपा खड़ी उसके साथ। इसीलिए सपा ने बिहार में अलग चुनाव लडऩे का फैसला लिया है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से अपील कि जातिवाद को बढ़ावा देने वाली व प्रदेश में आतंक का माहौल बनाने वाली सपा से डटकर मुकाबला करें। उन्होंने कहा ईमानदार प्रत्याशियों का चयन करें, उन्हें ही टिकट दिया जाएगा।

Posted By: Nawal Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस