अयोध्या, जेएनएन। अयोध्या में विवादित बाबरी मस्जिद विध्वंस के सुप्रीम कोर्ट के फैसले को देखते हुए हाई अलर्ट कर दिया गया है। एडीजी लखनऊ जोन एसएन साबत ने बयान दिया है कि फैसले को लेकर पूरी तरह से तैयार है पुलिस। फोर्स की तैनाती का प्लान बना लिया गया है। दीपोत्सव के तुरंत बाद अलग से फोर्स की तैनाती होगी। वे दो दिन के अयोध्या दौरे पर आए थे।

एडीजी ने बताया कि 2010 की अपेक्षा सुरक्षा को ओर अधिक अपग्रेड किया गया है। कुछ फोर्स की तैनाती कर दी गई है। अयोध्या फैसले को लेकर बाहर के लोगों की अयोध्या कूच की अभी कोई जानकारी नहीं है, लेकिन हर सिचुएशन के लिए पुलिस तैयार है।सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने की किसी को इजाजत नहीं है। अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ मुकदमे दर्ज हो रहे हैं और कार्रवाई हो रही है। जो भी सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ेगा उसके खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई। 

एडीजी ने थानों निरीक्षण किया और समीक्षा बैठक की

अपने दौरे मैं एडीजी जोन ने रौनाही व थाना कैंट का निरीक्षण किया। रौनाही थाना कैंट के नियावां पर लगाई थी चौपाल। अयोध्या में परिसर व राम की पैड़ी का किया था निरीक्षण। पुलिस लाइन का भी निरीक्षण किया था। साथ ही अधिकारियों के साथ सुरक्षा को लेकर समीक्षा बैठक की। थानों की साफ-सफाई पर ध्यान देने निर्देश भी दिए। अच्छे काम करने वाले पुलिस कर्मियों को पुरस्कृत किया व कसौटी पर खरा न उतरने वाले को चेतावनी दी।

17 नवंबर से पहले आ सकता है फैसला 

बाबरी मस्जिद प्रकरण में मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की एक संविधान पीठ 6 अगस्त से लगातार इस मामले की सुनवाई कर रही है। इस मामले की सुनवाई पूरी हो चुकी है। अब 17 नवंबर से पहले फैसला आ जाएगा। जिसके मद्देनजर यूपी सरकार कानून व्यवस्था को लेकर गंभीर है। इसी क्रम में शासन के अफसरों का अयोध्या दौरा भी शुरू हो गया है। कुछ दिन पहले मुख्य सचिव और डीजीपी ने भी अयोध्या पहुंचकर दिशा निेर्देश दिए थे, हालांकि उसे अफसरों ने  अयोध्या में दीपोत्सव की तैयारी से जोड़ा था, लेकिन बताया जा रहा है कि अयोध्या मामले के फैसले के बाद कानून व्यवस्था को चाक चौबंद करने की कवायद के तहत ये तैयारी है। अब दो दिन के दौरे पर एडीजी एसएन साबत आए और उन्होंने सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया।

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप